शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024 | 09:23 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | उत्तराखंड | उत्तराखण्डी लड़कियों की डिमांड सुनकर लड़के दंग, नेपाल जाकर शादी करने को मजबूर

उत्तराखण्डी लड़कियों की डिमांड सुनकर लड़के दंग, नेपाल जाकर शादी करने को मजबूर


आज के समय में शादी के लिए रिश्ता ढूंढना कोई मुश्किल काम नहीं है लेकिन मुश्किल होती है, तो एक-दूसरे की डिमांड को लेकर. एक समय था जब लड़की वाले लड़के की हर डिमांड पूरी करते थे. लड़के ही लड़कियों को चुनते थे. लड़कियों से तो उनकी पसंद पूछी ही नहीं जाती थी लेकिन वर्तमान समय में लड़कियां अब लड़कों से भी ज्यादा डिमांडिंग हो गई हैं. उत्तराखंड राज्य के कुमाऊं क्षेत्रों से कई सारे मामले ऐसे सामने आए हैं, जहां लड़कियों ने सरकारी नौकरी या बड़े शहर में जमीन न होने के कारण शादी के लिए मना कर दिया है.
कुमाऊं क्षेत्र में ऐसे हजारों की नहीं हो पाई शादी 
हाईटेक युग में शादी-ब्याह के लिए लड़का या लड़की ढूंढना बहुत मुश्किल नहीं रह गया है, लेकिन बदलते वक्त के साथ लड़कों की ही नहीं, लड़कियों की भी पसंद बदली है. कुमाऊं क्षेत्र में ऐसे हजारों युवा हैं, जिनकी शादी नहीं हो पा रही है. वजह है लड़कियों की अजीबो-गरीब डिमांड. किसी को सिर्फ सरकारी नौकरी वाला दूल्हा चाहिए, तो कोई हल्द्वानी में प्लॉट के मालिक की राह तक रहा है. अब हाल यह है कि निराश युवक इंटरनेट के भरोसे दुल्हन तलाशने को मजबूर हो गए हैं लेकिन लड़कियों की इस तरह की डिमांड वहां भी उनका पीछा नहीं छोड़ रही है.
प्राइवेट जॉब वालों के सामने बड़ी मुश्किल
अल्मोड़ा का रहने वाला विकास  रुद्रपुर सिडकुल में नौकरी करता है. उसने बताया कि उसकी शादी की बात चली. दोनों ने फोटो देखने के बाद एक-दूसरे को पसंद भी कर लिया. लेकिन हल्द्वानी में जमीन या घर न होने के चलते लड़की वालों ने शादी से इनकार कर दिया. वहीं हल्द्वानी में प्राइवेट जॉब करने संदीप ने बताया कि उनकी शादी के लिए कई जगह बात चली लेकिन ज्यादातर लड़कियों को सरकारी नौकरी वाला दूल्हा चाहिए. इस एक वजह से उनकी शादी नहीं हो पा रही है.
अब लड़कियों की पसंद सरकारी नौकरी
ज्योतिषाचार्य प्रवीण शास्त्री ने बताया कि यह सही बात है कि धीरे-धीरे अब लड़कियों की पसंद सरकारी नौकरी और हल्द्वानी या बड़े शहर में प्लॉट या घर बन गया है, जिस कारण कई लड़कों का विवाह नहीं हो पा रहा है. उन्होंने बताया कि चंपावत और पिथौरागढ़ के युवा तो नेपाल से भी दुल्हन लाने में गुरेज नहीं कर रहे हैं.
पहले भारत-नेपाल के युवक-युवतियों के बीच रिश्ते होना आम हुआ करता था, लेकिन बीते 40-50 साल से ऐसे मामले न के बराबर सामने आए हैं. उन्होंने कहा कि आजकल शादी को लेकर अच्छा वेतन और जमीन या बड़ा घर होने की मांग अब आम हो गई है. शादियों को लेकर हमारे पास कई कुंडलियां आती हैं, जिनमें से कई रिश्ते सिर्फ लड़के की सरकारी नौकरी न होने और शहर में मकान न होने की वजह से नहीं हो पा रहे हैं.

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: