सोमवार, 27 सितंबर 2021 | 03:01 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | दुनिया | कोरोना के बाद चीन में फैले मंकी वायरस से हुई पहली मौत

कोरोना के बाद चीन में फैले मंकी वायरस से हुई पहली मौत


पूरी दुनिया को कोरोना महामारी मे झोंकने के बाद चीन में अब एक नई बीमारी फैल गई है। जिसके कारण पहली चीन में पहली मौत भी हो गई है। इस खबर के फैलते ही लोगों में डर पैदा हो गया है। मार्च की शुरुआती महीने में दो मरे हुए बंदरों का पोस्टमार्टम करने के बाद बीजिंग के एक वेटरनरी सर्जन इस खतरनाक वायरस से संक्रमित हो गए थे, और बाद में 27 मई को उनकी मौत हो गई थी। ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, पेशेंट के करीबी संपर्क में आए सभी लोगों के टेस्ट कर लिए गए हैं और वे इस वायरस से महफूज पाए गए हैं। हालांकि सीडीसी ने कहा है कि जानवरों का इलाज करने वाले डॉक्टर, उनकी देखभाल करने वाले लोगों और रिसर्चर को जूनोटिक खतरा पैदा हो गया है। ऐसे में इन लोगों की निगरानी करना बहुत जरूरी हो गया है। मंकी बी-वायरस से जिस 53 वर्षीय डॉक्टर की मौत हुई उन्हें पहले उल्टी उल्टी और बुखार के साथ न्यूरोलॉजिकल तकलीफे शुरू हुईं थी। इलाज के लिए उस डॉक्टर को एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां लगभग एक माह बाद 27 मई को उनकी मौत हो गई। यह मंकी बीवी वायरस कितना घातक है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इससे संक्रमित लोगों की मरने की दर 70 से 80 फीसदी है। वहीं कोरोना वायरस से संक्रमित 1000 लोगों में से केवल 9 लोगों के मरने का खतरा रहता है। चीन के आधिकारिक मीडिया की एक रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है। सरकारी अखबार 'ग्लोबल टाइम्स’ की रिपोर्ट के मुताबिक, 53 वर्षीय पशु चिकित्सक जानवरों पर अनुसंधान करने वाली संस्था के लिए कार्य करते थे। चिकित्सक ने मार्च में दो मृत बंदरों पर शोध किया था। इसके बाद उनमें मतली और उल्टी के शुरुआती लक्षण नजर आने लगे। इस खबर के सामने आते ही देश और दुनिया में एक बार फिर से डर फैल गया है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: