बुधवार, 28 अक्टूबर 2020 | 11:29 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशवासियों से अपील,सैनिक के नाम जलाएं एक दीया          विजयदशमी के पावन पर्व पर बद्री-केदार,गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने की तिथि का ऐलान          स्वास्थ्य मंत्रालय की देश वासियों से अपील,त्योहारों के मौसम में कोरोना को लेकर बरतें सावधानी          दिवाली से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को मोदी सरकार का तोहफा,3737 करोड़ रुपये के बोनस का भुगतान तुरंत           भारत दौरे से पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री का बड़ा बयान लद्दाख में चीन भारत पर डाल रहा है सैन्‍य दबाव          उत्तराखंड में चिन्हित रेलवे क्रॉसिंगों पर 50 प्रतिशत धनराशि केन्द्रीय सड़क अवस्थापना निधि से की जाएगी          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | केदारनाथ आपदा में लापता लोगों की खोज को चले सर्च अभियान में मिले चार नर कंकाल

केदारनाथ आपदा में लापता लोगों की खोज को चले सर्च अभियान में मिले चार नर कंकाल


साल 2013 में केदरानाथ आपदा के दौरान लापता हुए लोगों में से चार लोगों के कंकाल मिल गए हैं। पांच दिन चले सर्च अभियान के आखिरी दिन रविवार को सोनप्रयाग-त्रियुगीनारायण-केदारनाथ ट्रैक पर गुफा और घास में मिले इन अस्थि अवशेषों से डीएनए जांच के लिए सैंपल लिए गए और फिर सोनप्रयाग संगम पर विधि-विधान के साथ इनकी अंत्येष्टि की गई। 

16 /17 जून 2013 को केदारनाथ में आई आपदा में 4435 यात्री/स्थानीय लोग मारे गए थे जबकि 3886 लोगों का पता नहीं लगा। बीते सात वर्षों में कई बार चले सर्च अभियान में अभी तक 703 कंकाल मिल चुके हैं, जिनमें 180 से अधिक की ही पहचान हो पाई।

लापता लोगों के अस्थि अवशेषों की तलाश के लिए 16 सितंबर को एसपी के नेतृत्व में सोनप्रयाग से 10 टीमों के साथ चार दिवसीय विशेष अभियान शुरू किया गया था, लेकिन इस दौरान कोई नर कंकाल नहीं मिला। इसके बाद सोनप्रयाग-त्रियुगीनारायण-केदारनाथ रूट पर गई टीम का अभियान एक दिन के लिए बढ़ा दिया गया था। 

एसडीआरएफ के सब इंस्पेक्टर कर्ण सिंह रावत के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम द्वारा सोनप्रयाग-त्रियुगीनारायण-केदारनाथ ट्रैकिंग रूट पर नर कंकालों की खोजबीन की जा रही थी। बीते शनिवार शाम को टीम को केदारनाथ से लगभग 19 किमी पहले और गुमखड़ा से दो किमी नीचे गौरी माई खर्क के समीप गुफा व घास के मैदान के समीप चार नर कंकाल मिले।

कंकालों को सोनप्रयाग लाने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा डीएनए सैंपल लिया गया। इसके बाद रविवार सुबह सोन व मंदाकिनी नदी के संगम पर विधि-विधान से अस्थि-अवशेष की अंत्येष्टि की गई। पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह भुल्लर ने बताया कि बरामद नर कंकाल के बारे में मुख्यालय को सूचना दे दी गई है। डीएनए रिपोर्ट आने के बाद अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। टीम में एसडीआरएफ के एसआई कर्ण सिंह रावत के नेतृत्व में हेड कांस्टेबल भगत सिंह , कांस्टेबल मनोज जोशी , कांस्टेबल पंकज राणा , फायरमैन योगेश रावत शामिल रहे। 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: