सोमवार, 15 जुलाई 2024 | 04:16 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | उत्तराखंड | शादी की पहली सालगिरह भी न मना पाए अनुज, तिरंगे में लिपटकर पहुंचे घर

शादी की पहली सालगिरह भी न मना पाए अनुज, तिरंगे में लिपटकर पहुंचे घर


कोटद्वार - कठुआ में बलिदान हुए उत्तराखंड के रिखणीखाल के डोबरिया (पोस्ट धामधार) निवासी राइफलमैन अनुज नेगी घर के इकलौते बेटे थे। उनकी एक बहन भी है। उनके पिता भारत सिंह वन विभाग में दैनिक कर्मचारी थे। मां सरिता देवी गृहिणी हैं। 
अनुज का आठ माह पूर्व बीते नवंबर में विवाह हुआ था। गर्मियों की छुट्टियों में वह घर आए थे और मई के अंत में ड्यूटी पर लौटते समय सर्दियों में फिर से आने का वादा करके गए थे।

अनुज के बलिदान होने की सूचना से पूरे गांव में शोक छाया है। जिला पंचायत सदस्य विनयपाल सिंह नेगी ने बताया कि लोग उनके परिजनों को ढाढ़स बंधाने के लिए गांव पहुंचने लगे हैं। 

गांव व घर में मातम का छाया है। राजस्व उपनिरीक्षक यशवंत सिंह ने बताया कि अनुज नेगी के बलिदान की खबर सुनकर पिता भारत सिंहमाता सरिता देवीपत्नी सीमा देवी का रो-रो कर बुरा हाल है। घर में उनकी बहन अंजलि का भी बुरा हाल है।

उनके बलिदान होने की खबर से कोटद्वार से लेकर रिखणीखाल तक शोक छा गया। उनका पार्थिव शरीर मंगलवार शाम को जौलीग्रांट से सेना के हेलीकाप्टर से कोटद्वार पहुंच गया है। 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: