बुधवार, 12 अगस्त 2020 | 08:20 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीएम मोदी ने रखी राम मंदिर की नींव, देश भर में घर-घर दीप प्रज्ज्वलित कर मनाई जा रही है खुशियां          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           कोटद्वार में अतिवृष्टि से सड़क पर आया मलबा, बरसाती नाले में बही कार, चालक की मौत          चारधाम देवस्थानम बोर्ड मामले में उत्तराखंड सरकार को बड़ी राहत,सुब्रह्मण्यम स्वामी की याचिका हाईकोर्ट          प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से की केदारनाथ के निर्माण कार्यों की समीक्षा, कहा धाम के अलौकिक स्वरूप में और भी वृद्धि होगी          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | स्वीडन के किंग कार्ल-16 गुस्ताफ, क्वीन सिल्विया पहुंचे जिम कार्बेट पार्क

स्वीडन के किंग कार्ल-16 गुस्ताफ, क्वीन सिल्विया पहुंचे जिम कार्बेट पार्क


स्वीडन के किंग कार्ल-16 गुस्ताफ, क्वीन सिल्विया उत्तराखण्ड भ्रमण पर हैं। शुक्रवार को वे जिम कार्बेट पार्क पहुंचे, जहां उन्होंने वन्य जीव, जैव विविधता एवं प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद लिया। अपने भ्रमण के दौरान स्वीडन के किंग कार्ल-16 गुस्ताफ और क्वीन सिल्विया ने वन्य जीवों तथा उनके रहनसहन के बारे में अधिकारियों से जानकारी भी ली।

स्वीडन के 16वें राजा कार्ल गुस्ताव  और महारानी सिल्विया शुक्रवार को रामनगर में जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क घूमने के लिए गए थे। इस दौरान वे अचानक एक वन गुज्जर के घर चले गए। पत्थरकुआं स्थित गुज्जर बस्ती में जाकर वनों में निवास कर रहे गुज्जरों के जीवन यापन के बारे में जानकारी ली। 

अब्दुल रहमान नामक गुज्जर के झाले पर पहुंचे राजा और रानी का गुज्जरों ने कम्बल व हाथ से बने पंखे देकर स्वागत किया गया। ये तोहफा देख वे बेहद खुश नजर आए। शाही जोड़े ने गुज्जरों से उनकी दिनचर्या, कारोबार, बच्चों की शिक्षा के बारे में विस्तार से जानकारी ली।

इस दौरान दूध की खीर देखकर रानी सिल्विया ने खीर खाने की इच्छा व्यक्त की, जो कि सुरक्षा कारणों से पूरी नहीं हो सकी। गुज्जरों ने उन्हें बताया कि पशुपालन से ही उनकी आजीविका चलती है। जंगल में बच्चों की शिक्षा का कोई प्रबंध नहीं है। बीते 18 साल से सरकार से अपने विस्थापन की मांग कर रहें हैं, लेकिन उनका विस्थापन आज तक नहीं किया गया। 

शाही जोड़े ने उनके बच्चों की शिक्षा का प्रबंध न होने पर दुख व्यक्त करते हुए इस बाबत मदद दिये जाने का भरोसा दिलाया। स्वीडन से आये शाही जोड़े ने शुक्रवार को कॉर्बेट पार्क की दिलकश वादियों का नजारा करते हुए पार्क की नैसर्गिक सुन्दरता की मुक्त कंठ से प्रशंसा की। 

शुक्रवार की सुबह साढ़े 6 बजे पार्क के झिरना जोन में स्वीडन के राजा कार्ल गुस्ताव व महारानी सिल्विया ने स्वच्छन्द विचरण कर रहे वन्यजीवों के नजारे को करीब से निहारा। इस दौरान उनके साथ कॉर्बेट प्रशासन, नागरिक प्रशासन, पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। इसके बाद वे पंतनगर एयरपोर्ट से वापस दिल्ली के लिए रवाना हो गए।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: