सोमवार, 30 मार्च 2020 | 01:14 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
कोरोना के चलते लखनऊ में भी लॉकडाउन, 23 मार्च तक सभी दफ्तर बंद          मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ ने अपने पद से इस्तीफा दिया          जनता कर्फ्यू.रविवार को नहीं चलेगी मेट्रो, DMRC ने जारी की एडवायजरी          उत्तराखंड में 65 साल के अधिक और 10 साल से कम आयु वाले बच्चों से 31 मार्च तक घर पर रहने की अपील           कोरोना वायरस: दिल्ली का चिड़ियाघर 31 मार्च तक बंद          विदेशों में 276 भारतीय कोरोना वायरस से संक्रमित          कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते माता वैष्णो देवी की यात्रा आज से बंद          उत्तराखंड सरकार बड़ा फैसला,पदोन्नति में आरक्षण किया खत्म,कर्मचारी लौटे काम पर          भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 131 हुई,उत्तराखंड व्यक्ति में कोरोना की पुष्टि           आईपीएल पर कोरोना वायरस का साया,अब 15 अप्रैल से शुरू होंगे मैच          ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा ने मध्यप्रदेश से राज्यसभा उम्मीदवार घोषित किया          भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया           SBI ने बताया यस बैंक को बचाने का प्लान, कहा- पैसा बिल्कुल सेफ          कोरोना वायरस पर बोले पीएम मोदी- अफवाहों से बचें, जो भी करें अपने डॉक्टर की सलाह पर करें          निर्भया के दोषियों के खिलाफ नया डेथ वारंट जारी, 20 मार्च सुबह 5:30 बजे होगी फांसी          कोरोनवायरस के चलते दिल्ली के सभी सरकारी और निजी प्राइमरी स्कूल कक्षा 5 वीं तक 31 मार्च तक बंद           नशीले पदार्थों की तस्करी पर काबू करने की प्रणाली पर सहमति          भारत और अमेरिका के बीच डिफेंस डील पर मुहर, ट्रेड डील के लिए बातचीत पर सहमति          भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | सेहत | उत्तराखंड का पारंपरिक व पौष्टिक अनाज झंगोरा

उत्तराखंड का पारंपरिक व पौष्टिक अनाज झंगोरा


उत्तराखण्ड में झंगोरा की खेती बहुतायत मात्रा में असिंचित भू भाग में की जाती है। यह पोएसी परिवार का पौधा है। उत्तराखण्ड में झंगोरा को अनाज तथा पशुचारे दोनों के लिये उपयोग किया जाता है। झंगोरा की महत्ता इसी बात से लगाई जा सकती है कि इसको बिलियन डालर ग्रास का नाम भी दिया गया है। यह सिर्फ भारत में ही नहीं अपितु चीन, नेपाल, जापान, पाकिस्तान तथा अफ्रीका में भी उगाया जाता है। जहां तक उत्तराखण्ड में झंगोरे की खेती की बात की जाए तो यह असिंचित भूमि, जहां पर सिंचाई का साधन न हो तथा बिना किसी भारी भरकम तकनीकी के कम लागत से आसानी से ऊगाई जाने वाली फसल है। कभी-कभी असिंचित धान/चैती धान के खेतों के चारों ओर भी बार्डर crop तथा Buffer zone के लिये भी उगाई जाती है। यह सभी Millets में सबसे तेज उगने वाली फसल है चूंकि झंगोरे में विपरीत वातावरण में भी में उत्पादन देने की क्षमता होती है, इसलिये हमारे पूर्वजों ने यहां की भौगोलिक परिस्थितियों, जलवायु, भूमि के प्रकार के हिसाब से इस महत्वपूर्ण फसल का चयन किया था। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि इससे अनाज के साथ पशुचारा भी उपलब्ध हो जाता है, जिसे स्थानीय कास्तकार लंबे समय तक सुरक्षित रखकर, बर्फ के मौसम में या जब पशुचारे की कमी हो इसे उपयोग करते है। इसके पशुचारे को अगर कास्तकारों का Contingency fodder plan कहा जाए तो बेहतर हेगा।

 विश्वभर में झंगोरा की 32 प्रजातियां पाई जाती है, जिसमें अधिकतम प्रजाति जंगली है केवल E. utilis तथा E. frumentacea ही मुख्यता उगाई जाती है। E. utitis जापान, कोरीया तथा चीन में जबकि E. frumentacea भारत तथा सेंट्रल अफ्रीका में उगाई जाती है। वैसे तो झंगोरे की उत्पति को सही-सही बता पाना बेहद मुश्किल है लेकिन कुछ वैज्ञानिक अध्ययनों के आधार पर झंगोरे की उत्पत्ति भारत तथा अफ्रीकी देशों में क्रमवत विकास के साथ-साथ पाई गई है। Dogget 1989 के अध्ययन के अनुसार झंगोरा की उत्पत्ति इसकी जंगली प्रजाति E. crus-galli से लगभग 400 साल पूर्व मानी जाती है। कुछ Archeological वैज्ञानिकों के अनुसार जापान में Yayoi काल में झंगोरे का उत्पादन (Domestication) का वर्णन मिलता है।

झंगोरे में कार्बोहाइड्रेट 65.5g/100 gm की मात्रा चावल की अपेक्षा कम होने के कारण तथा धीमी गति पाचन होने के कारण इसे मधुमेह रोगियों के लिये सबसे उपयुक्त माना जाता है। झंगोरे में High dietary fiber तथा Low carbohydrate digestibility होने की वजह से शरीर में Glucose level को Maintain रखता है । यह Gluten free food का बेहतर विकल्प भी है, मुख्यत उन लोगों के लिये जो Celiac बीमारी से ग्रषित है।

झंगोरे में कार्बोहाइड्रेट के अलावा प्रोटीन -6.2 ग्राम, वसा-2.2 ग्राम, फाइबर-9.8 ग्राम, कैल्शियम -20 ग्राम, फास्फोरस 280 मि०ग्राम, आयरन- 5.0 मि0ग्राम, मैग्नीशियम- 82 मि0ग्राम, जिंक 3 मि0ग्राम पाया जाता है। झंगोरे में प्रोटीन 12 प्रतिशत जो कि 81.13 प्रतिशत 58.56% है तथा कार्बोहाइड्रेट 58.56% जो 25.88% Slow digestible होता है।

1970 के दशक तक भारत विश्व में सर्वाधिक Millet उत्पादक देश था। वर्ष 2000 तक देश के विभिन्न प्रदेशो में Millet का उत्पादन 50 से 70 प्रतिशत तक बढ़ा तथा वर्ष 2005 तक बदलती खाद्य शैली के चलते के Millet का उपयोग केवल पशुचारे तथा शराब बनाने तक सीमित रह गया। विश्व में वर्ष 2010 तक 0.23 टन प्रति हे0 Millet उत्पादन रहा। विश्व में फ्रांस Millet उत्पादन में सबसे अग्रणी है, केवल फ्रांस में ही 3.3 टन प्रति हे0 Millet का उत्पादन होता है। FAO के वर्ष 2013 के अध्ययन के अनुसार भारत में 1,09,10,000.00 टन, नाईजेरिया में 50 लाख टन, चीन में 16,20,000 टन, सूडान में 10,90,000 टन तथा यूथोपिया में 8,07,56 लाख टन उत्पादन रहा जबकि मैखुरी, 2001 के अध्ययन के अनुसार उत्तराखण्ड मे झंगोरा के उत्पादन क्षेत्र में 72% की कमी आंकी गई है।

द्वारा झंगोरे की पोष्टिक महत्ता को देखते हुए झंगोरा से कई प्रकार के खाद्य उत्पाद पापड, इडली, यानों बढ़ाई, मुरूरकु, डोसा, पानीयारम, हाट कोलकटाई, रिवन पकोड, इडियापम, पुहो, उपमा, स्वीट कंसारी, अधीश्रम, खरी, खखरा, मिठाई, कोलकटाई आदि बनाई जाती है जिसकी स्थानीय बजार में खूब प्रचलन है। Millet का सर्वाधिक उपयोग विश्व में केवल Alcohol निर्माण के लिये Poultry feed में ही किया जाता है।

Amazon.in में झंगोरे से निर्मित प्राथमिक उत्पाद 90 से 150 किलोग्राम तक बेचे जा रहें हैं। भारत में ही कई राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय एजेंसीज के द्वारा झंगोरे का चावल विभिन्न देशो की निर्यात किया जाता है। वर्ष 2016 में ही भारत से संयुक्त अरब अमीरात तथा सिंगापुर की झंगारे का चावल निर्यात किया गया।

आज विश्व में ही नहीं राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न देशो में अनाज आधारित उत्पाद बहुतायात मात्रा में बनाया जाता है। Milletअन्य अनाज की अपेक्षा ज्यादा पोष्टिक, Gluten free तथा Slow digestible गुणों के कारण अन्य अनाजों के बजाय Millet का प्रयोग बहुतायत किया जा सकता है जो कि Millet उत्पादकों के लिये बाजार तथा उत्पादो के लिये Gluten free food का बाजार बन सकता है। उत्तराखण्ड में ही नहीं भारत में भी खेती योग्य भूमि का अधिकतम भू-भाग असिंचित होने के कारण पौष्टिकता से भरपूर Millet उत्पादन को बढ़ावा दिया जा सकता है जो कि आर्थिकी का एक बडा विकल्प होगा।

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: