सोमवार, 23 सितंबर 2019 | 09:23 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सेंसेक्स के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी तेजी, 1 दिन में ही निवेशकों को 7 लाख करोड़ रुपए का फायदा          इंतजार खत्म- वायुसेना को मिला पहला राफेल फाइटर जेट, दिया गया नए वायुसेना प्रमुख का नाम          जीएसटी काउंसिल की बैठक: ऑटो सेक्टर को नहीं मिली राहत, होटल कमरों पर कम हुई टैक्स दर          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          मौत का एक्सप्रेस वे बना यमुना एक्सप्रेस वे, इस साल हादसों में गई 154 लोगों की जान          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | धर्म-अध्यात्म | बदरीनाथ धाम में 23 अगस्त को मनायी जाएगी जन्माष्टमी

बदरीनाथ धाम में 23 अगस्त को मनायी जाएगी जन्माष्टमी


जन्‍माष्‍टमी,हिन्‍दुओं का प्रमुख त्‍योहार है। हिन्‍दू मान्‍यताओं के अनुसार सृष्टि के पालनहार श्री हरि विष्‍णु के आठवें अवतार नटखट नंदलाल यानी कि श्रीकृष्‍ण के जन्‍मदिन को श्रीकृष्‍ण जयंती  या जन्‍माष्‍टमी के रूप में मनाया जाता है। मान्‍यता है कि भगवान श्रीकृष्‍ण का जन्‍म भाद्रपद यानी कि भादो माह की कृष्‍ण पक्ष की अष्‍टमी को रोहिणी नक्षत्र में हुआ था। अगर अष्‍टमी तिथि के हिसाब से देखें तो 23 अगस्‍त को जन्‍माष्‍टमी होनी चाहिए, लेकिन अगर रोहिणी नक्षत्र को मानें तो फिर 24 अगस्‍त को कृष्‍ण जन्‍माष्‍टमी होनी चाहिए। आपको बता दें कि कुछ लोगों के लिए अष्‍टमी तिथि का महत्‍व सबसे ज्‍यादा है वहीं कुछ लोग रोहिणी नक्षत्र होने पर ही जन्‍माष्‍टमी का पर्व मनाते हैं। 

श्री बदरीनाथ धाम में जन्माष्टमी का पर्व 23 अगस्त शुक्रवार को मनाया जायेगा। इसी दिन जन्माष्टमी व्रत रहेगा एवं श्री बदरीनाथ मंदिर में मध्य रात्रि को भगवान श्री कृष्ण का जन्म होगा, भगवान का अभिषेक सहित जन्माष्टमी की विशेष पूजा आयोजित होंगी जबकि जन्मोत्सव झांकी 24 अगस्त शनिवार प्रात: को निकलेगी। इस अवसर हेतु श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति द्वारा मंदिर को सजाया जायेगा। मंदिर परिसर में भजन-कीर्तन के कार्यक्रम आयोजित किए जायेंगे।
श्री कृष्ण जन्मोत्सव झांकी का समारोह श्री बदरीश पंडा पंचायत द्वारा नंदोत्सव के रूप में आयोजित किया जायेगा। भगवान श्री कृष्ण के बाल स्वरूप मूर्ति को डोली में बिठाकर नंदबाबा एवं संपूर्ण गोकुलवासी नगर भ्रमण पर ले जाएगे इस अवसर पर गोकुलवासियों की भेषभूषा में कलाकार झांकी को जीवंत कर देते हैं। आपको बता दें कि प्रत्येक वर्ष श्री बदरीनाथ धाम में श्री कृष्ण जन्माष्टमी में यह कार्यक्रम आयोजित होता है। इस तरह जन्माष्टमी भव्य रूप से मनायी जाती है।
जन्माष्टमी के अवसर पर श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल एवं सदस्य गण सहित मंदिर समिति मुख्य कार्याधिकारी बी.डी.सिंह, रावल ईश्वरा प्रसाद नंबूदरी, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल एवं सभी अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहेंगे।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: