बृहस्पतिवार, 24 सितंबर 2020 | 01:38 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पॉलिसी उल्लंघन के कारण गूगल ने पेटीएम को हटाया,पेटीएम ने कहा,पैसे हैं सुरक्षित          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे           उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | खेल | एशियन जूनियर मुक्केबाजी चैंपियनशिप भारत को रजत पदक दिलाने वाले जयदीप रावत पहुंचे अपने गांव

एशियन जूनियर मुक्केबाजी चैंपियनशिप भारत को रजत पदक दिलाने वाले जयदीप रावत पहुंचे अपने गांव


एशियन जूनियर मुक्केबाजी चैंपियनशिप में भारत की झोली में रजत पदक डालने के बाद भारतीय मुक्केबाज जयदीप रावत अपने गांव पैठाणी पहुंचे। यहां ग्रामीण उन्हें लेने के लिए गांव के पुल पर एकत्र हुए। इस दौरान फूलमालाओं व ढोल-नगाड़ों की थाप पर जयदीप के जयघोष के नारे लगाए गए। राठ महाविद्यालय और एसजीआरआर पब्लिक स्कूल के छात्र-छात्राओं व ग्रामीणों में जयदीप के साथ सेल्फी लेने की होड़ लगी रही। लेकिन इस दौरान सरकार के किसी नुमाईदे के न पहुंचने पर ग्रामीणों में रोष दिखा। इस मौके पर समाज सेवी मोहन काला में जयदीप रावत का स्वागत करने पहुंचे। उन्होंने जयदीप को बधाई देते हुए कहा कि एक होनहार गरीब किसान का बेटा उत्तराखण्ड के पैठाणी राठ गाँव से निकल कर विदेश में एशियन जूनियर मुक्केबाजी चैंपियनशिप में 28 देशों के मुक्केबाजों का मुक़ाबला कर भारत की झोली रजत पदक डालता है। लेकिन दुर्भाग्य देखिए की की इस मुक्केबाज के स्वागत-सम्मान के लिए सरकार का कोई नुमाइदा  नहीं पहुंचता है। यही बच्चा अगर किसी बड़े नेता या अधिकारी होता तो हवाई अड्डे से लेकर घर-गांव तक जश्न मनाया जाता।

आपको बता दें कि 18 अक्टूबर को संयुक्त अरब अमीरात के फुजैराह शहर में एशियन जूनियर चैंपियनशिप संपन्न हुई। इसमें एशिया महाद्वीप के 28 देशों के खिलाडिय़ों ने प्रतिभाग किया। चैंपियनशिप के 66 किलोभार वर्ग में जयदीप ने कजाकिस्तान के मुक्केबाज को पराजित कर भारत की झोली में रजत पदक डाला था। नव निर्वाचित ग्राम प्रधान पैठाणी बबीता कंडारी ने कहा कि जयदीप ने गांव, क्षेत्र व प्रदेश का नाम पूरी दुनिया में रोशन किया है। उन्होंने कहा कि जयदीप विश्व में पैठाणी को नई पहचान दे रहा है। राठ महाविद्यालय के प्राचार्य डा. जितेंद्र सिंह ने कहा कि विश्व स्तर पर उपलब्धियों के लिए राठ शिक्षा विकास समिति जयदीप को 25 हजार का नकद पुरस्कार प्रदान करेगी। इस अवसर पर जयदीप के पिता जगदीश सिंह, डा. देवकृष्ण थपलियाल, शरद सिंह गुसाईं, राजेंद्र रौथाण, नरेंद्र सिंह नेगी, भवान सिंह, प्रकाश नौटियाल, संदीप सिंह, हीरा सिंह, रघुवीर रावत व मनोज रौथाण आदि मौजूद थे।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: