शुक्रवार, 7 अगस्त 2020 | 08:55 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीएम मोदी ने रखी राम मंदिर की नींव, देश भर में घर-घर दीप प्रज्ज्वलित कर मनाई जा रही है खुशियां          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           कोटद्वार में अतिवृष्टि से सड़क पर आया मलबा, बरसाती नाले में बही कार, चालक की मौत          चारधाम देवस्थानम बोर्ड मामले में उत्तराखंड सरकार को बड़ी राहत,सुब्रह्मण्यम स्वामी की याचिका हाईकोर्ट          प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से की केदारनाथ के निर्माण कार्यों की समीक्षा, कहा धाम के अलौकिक स्वरूप में और भी वृद्धि होगी          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | दुनिया | इस देश में 30 दिनों में सिर्फ 6 मिनट के लिए हुआ सूरज का दीदार

इस देश में 30 दिनों में सिर्फ 6 मिनट के लिए हुआ सूरज का दीदार


दुनिया में ठंड का कहर इस कदर जारी है कि हर कोई ठंड से परेशान है। कहीं धुंध ने परेशान कर रखा है तो कहीं नदियां पूरी तरह से जम चुकी हैं। बता दें, कि रूस में इस वर्ष सबसे ज्यादा ठंड पड़ रही है। जिसके कारण रूस की राजधानी मॉस्को में लोग ठंड से परेशान है आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि इस बार दिसंबर में मॉस्को में सिर्फ 6 से 7 मिनट के लिए ही सूरज निकला है, वैसे वहां दिसंबर के महीने में 18 घंटे के लिए सूरज निकलता है लेकिन इस बार मॉस्को के लोग सूरज के दीदार के लिए तरस रहे हैं। इससे पहले 2000 में दिसंबर में सबसे कम रोशनी हुई थी जो सिर्फ तीन घंट की लिए थी।

 


आपको बता दें, कि इतनी ठंड को देखते हुए लोकल पुलिस ने माता-पिता से अपने बच्चों को घर के अंदर ही रहने को कहा है। वही रूस के एक गांव में दुनिया की सबसे ज्यादा ठंड पड़ रही है, जहां की कुल आबादी 500 है, लेकिन यहां का तापमान -67 डिग्री तक पहुंच चुका है। बता दें, कि इस गांव का नाम ओइमाकॉन है जिसका मतलब होता है ऐसी जगह जहां पानी कभी नहीं जमता, लेकिन हालात इसके उलट है यहां पर पानी से साथ-साथ इंसान भी जम गया है। यहां के लोग अपना गुजर-बसर बड़ी मुश्किल से कर रहे हैं। 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: