बुधवार, 28 अक्टूबर 2020 | 10:48 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशवासियों से अपील,सैनिक के नाम जलाएं एक दीया          विजयदशमी के पावन पर्व पर बद्री-केदार,गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने की तिथि का ऐलान          स्वास्थ्य मंत्रालय की देश वासियों से अपील,त्योहारों के मौसम में कोरोना को लेकर बरतें सावधानी          दिवाली से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को मोदी सरकार का तोहफा,3737 करोड़ रुपये के बोनस का भुगतान तुरंत           भारत दौरे से पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री का बड़ा बयान लद्दाख में चीन भारत पर डाल रहा है सैन्‍य दबाव          उत्तराखंड में चिन्हित रेलवे क्रॉसिंगों पर 50 प्रतिशत धनराशि केन्द्रीय सड़क अवस्थापना निधि से की जाएगी          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | दुनिया | महानायक अभिताभ बच्चन दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित,बोले-सिनेमा मतभेद भुलाकर जोड़ने का जरिया

महानायक अभिताभ बच्चन दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित,बोले-सिनेमा मतभेद भुलाकर जोड़ने का जरिया


हिंदी फिल्मों के महानायक अमिताभ बच्चन ने कहा है कि सिनेमा लोगों को उनके मतभेद भुलाकर साथ लाने का एक बड़ा माध्यम है। यहां चल रहे 50वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में 77 वर्षीय अभिनेता को दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया, जिसकी घोषणा सितंबर में की गई थी।

फिल्म महोत्सव के दौरान अमिताभ बच्चन ने कहा, मैंने हमेशा महसूस किया है कि सिनेमा एक ऐसा सशक्त माध्यम है, जो भाषा और उन सब चीजों से परे है, जो हमारे सामाजिक और आधुनिक जीवन में आती रहती हैं। उन्होंने इसका उदाहरण देते हुए कहा कि जब हम अंधेरे सिनेमा हॉल में बैठते हैं, अपने बराबर में बैठे व्यक्ति से कभी नहीं पूछते कि वह किस जाति, धर्म और रंग का है। फिर भी हम उस फिल्म, उसके गाने, हंसी-मजाक और जज्बात का एकसाथ लुत्फ उठाते हैं।

अभिनेता ने कहा कि इस तेज और अलग-थलग दुनिया में सिनेमा सहित केवल कुछ चीजें हैं, जो सामुदायिकता और शांति के विचारों को फैलाती हैं। हमें उम्मीद है कि हम फिल्में बनाते रहेंगे जो लोगों को जाति, मजहब या रंगों के आधार पर बांटे नहीं बल्कि जोड़े।

फिल्म महोत्सव 28 नवंबर तक चलेगा, जिसमें अमिताभ बच्चन की भी सुपर हिट फिल्में शोले, दीवार, पीकू, ब्लैक और बदला दिखाई जा रही है। उन्होंने कहा, इस फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें 50 वर्ष हो गए हैं। उन्होंने 1969 में अपना फिल्मी सफर शुरू किया था और फिल्म महोत्सव का यह 50वां आयोजन है। उन्होंने आयोजकों को इसे यादगार बनाने के लिए बधाई दी। बुधवार को हुए फिल्म महोत्सव के उद्घाटन समारोह में विशिष्ट अतिथि अमिताभ ने कहा था कि उनके लिए गोवा आना हमेशा एक शानदार अनुभव रहा है। 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: