सोमवार, 21 सितंबर 2020 | 03:28 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पॉलिसी उल्लंघन के कारण गूगल ने पेटीएम को हटाया,पेटीएम ने कहा,पैसे हैं सुरक्षित          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे           उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | साहित्य | पर्यावरणविद एवं समाजसेवी चंड़ीप्रसाद भट्ट इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार से सम्मानित

पर्यावरणविद एवं समाजसेवी चंड़ीप्रसाद भट्ट इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार से सम्मानित


पर्यावरणविद एवं समाजसेवी चंडीप्रसाद भट्ट को गुरुवार को राष्ट्रीय एकता एवं सद्भाव के क्षेत्र में योगदान के लिए प्रतिष्ठित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार से सम्मानित किया गया। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि के अवसर पर दिल्ली के जवाहर भवन में आयोजित एक विशेष समारोह में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने चंडी प्रसाद भट्ट को 31वां इंदिरा गांधी राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया।

चंडीप्रसाद भट्ट को को यह पुरस्कार साल 2017-18 के लिए दिया गया। इस अवसर पर कई गणमान्य लोग मौजूद रहे। ‘चिपको आंदोलन’ से जुड़े रहे गांधी वादी भट्ट को पुरस्कार स्वरूप 10 लाख रुपये नकद और प्रशस्ति पत्र दिया गया।श्री भट्ट को इससे पहले पद्म भूषण,रैमन मैग्सेसे अवार्ड,गांधी शांति पुरुस्कार सहित कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों और सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है।

चंडी प्रसाद भट्ट एक गांधीवादी चिंतक के तौर पर जाने जाते हैं। उन्होंने 1964 में गोपेश्वर में 'दशोली ग्राम स्वराज्य संघ' की स्थापना की थी, जो कालान्तर में चिपको आंदोलन की मातृ-संस्था बनी। इसके लिए उन्हें साल 1982 रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: