सोमवार, 27 सितंबर 2021 | 04:05 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प्रदेश में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये मुख्यमंत्री नारी सशक्तिकरण योजना का शुभारम्भ किया जाय          विश्व पर्यटन दिवस पर सीएम पुष्कर धामी ने प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं          भाजपा की महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष वानाती श्रीनिवासन ने कहा,पीएम मोदी के कार्यकाल में मातृशक्ति सबसे ज्यादा मजबूत हुई है          सीएम पुष्कर धामी हरिद्वार में ब्रह्मलीन वीतराग सन्त शिरोमणि स्वामी वामदेव जी महाराज की प्रतिमा का किया अनावरण          उत्तराखण्ड में भी होगा वन्दे भारत ट्रेन का संचालन          उत्तराखंड कैबिनेट का बड़ा फैसला,राज्य कर्मियों का महंगाई भत्ता 11 फीसद बढ़ा          चार धाम यात्रा के लिए अब तक 42 हजार तीर्थ यात्रियों ने किया रजिस्ट्रेशन          रक्तदान के लिए हर व्यक्ति को आगे आने की जरूरतः त्रिवेंद्र रावत          उत्तराखंड की चार धाम यात्रा से हटी रोक         
होम | मनोरंजन | जावेद अख्तर ने हिन्दुओं को बताया सबसे सहनशील बहुसंख्यक

जावेद अख्तर ने हिन्दुओं को बताया सबसे सहनशील बहुसंख्यक


बॉलीवुड गीतकार जावेद अख्तर ने अफगानिस्तान मुद्दे पर बोलते हुए बड़ा बयान दिया है। जिसकी चर्चा हर तरफ हो रही है। जावेद अख्तर ने हिन्दुओं को दुनिया का सबसे सहनशील बहुसंख्यक बताया है। जावेद अख्तर ने शिवसेना के मुखपत्र सामना में एक लेख लिखा है। इसमें उन्होंने कहा है कि हिंदू दुनिया में सबसे "सभ्य" और "सहिष्णु" बहुसंख्यक हैं। तालिबान को दक्षिणपंथी समूहों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और विश्व हिंदू परिषद के साथ तुलना करने के बाद, जावेद अख्तर को सामना की आलोचना झेलनी पड़ी थी। उसके बाद उन्होंने यह लेख लिखा है। जावेद अख्तर ने लिखा कि मैंने इसे बार-बार दोहराया है और इस बात पर जोर दिया है कि भारत कभी अफगानिस्तान जैसा नहीं बन सकता, क्योंकि भारतीय स्वभाव से चरमपंथी नहीं हैं। सामान्य रहना उनके डीएनए में है। अख्तर ने आगे लिखा कि उनके आलोचक इस बात से नाराज है कि उन्होंने तालिबान और दक्षिणपंथी हिंदू विचारधारा में कई समानताएं बताई हैं। उन्होंने लिखा कि ये बात सही है क्योंकि तालिबान धर्म के आधार पर इस्लामिक सरकार का गठन कर रहा है, हिंदू दक्षिणपंथी हिंदू राष्ट्र चाहते हैं। तालिबान महिलाओं के अधिकारों पर रोक लगाना और उन्हें हाशिए पर लाना चाहता है, हिंदू दक्षिणपंथियों ने भी यह साफ कर दिया है कि वे महिलाओं और लड़कियों की आजादी के पक्ष में नहीं हैं। जावेद अख्तर के इस लेख की जमकर हर तरफ चर्चा हो रही है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: