बुधवार, 23 जून 2021 | 11:19 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम रावत ने रेल विकास निगम के अधिकारियों से ली ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाईन की जानकारी          हुंडई मोटर इंडिया फाउंडेशन ने उत्तराखंड को प्रदान किए वेंटिलेटर,ऑक्सीमीटर एवं सैनिटाइजर सहित अन्य सामान          सीएम ने दिखाई पांच वातानुकूलित इलेक्ट्रिक बसों को हरी झंडी          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई          पंजाब चुनावों से पहले कांग्रेस में छिड़ी जंग          उत्तराखंड में कोरोना कर्फ्यू के लिए दिशा-निर्देश जारी          उत्तराखंड में जल्द दूर होंगी सेवानिवृत्त राजकीय पेंशन संबंधी विसंगतियां          सचिन तेंदुलकर बने सदी के सबसे तेज बल्लेबाज          अमेरिका के राष्ट्रपति को पीछे छोड़ नंबर वन बने पीएम मोदी         
होम | विचार | हिंदी पत्रकारिता दिवस पर आपको ये जरूर जानना चाहिए

हिंदी पत्रकारिता दिवस पर आपको ये जरूर जानना चाहिए


देश में आज ही हिंदी पत्रकारिता दिवस मनाया जा रहा है। हिंदी पत्रकारिता दिवस देश के इतिहास के लिए एक खास दिन है। इसलिए ये हर साल आज के दिन मनाया जाता है।
हिंदी भाषा में 'उदन्त मार्तण्ड' के नाम से पहला समाचार पत्र 30 मई 1826 में निकाला गया था। इसलिए इस दिन को हिंदी पत्रकारिता दिवस के रूप में मनाया जाता है। कानपुर के पंडित जुगल किशोर शुक्ल ने इसे कलकत्ता से एक साप्ताहिक समाचार पत्र के तौर पर शुरू किया था। हिंदी पत्रकारिता की शुरुआत करने वाले पं. जुगल किशोर थे।
पैसों की तंगी की वजह से 'उदन्त मार्तण्ड' का प्रकाशन बहुत दिनों तक नहीं हो सका और आखिरकार 4 दिसंबर 1826 को इसका प्रकाशन बंद कर दिया गया।

उदंत मार्तण्ड' नाम के साप्ताहिक अखबार की शुरुआत  कानपुर से कलकत्ता में सक्रिय वकील पंडित जुगल किशोर शुक्ल ने इस अखबार की नींव रखी।वो हिंदुस्तानियों के हित में उनकी भाषा में अखबार निकालना चाहते थे।

उदंत मार्तंड का अर्थ होता है उगता सूरज।उदंत मार्तण्ड खड़ी बोली और ब्रज भाषा के मिले-जुले रूप में छपता था और इसकी लिपि देवनागरी थी। लेकिन इसकी उम्र ज्यादा लंबी नहीं हो सकी। इसके केवल 79 अंक ही प्रकाशित हो सके।
19 दिसंबर 1827 को उदन्त मार्तण्ड का आखिरी अंक प्रकाशित हुआ था। इसके बंद होने से हिंदी भाषी पाठकों को बड़ा झटका लगा था।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: