मंगलवार, 16 जुलाई 2019 | 03:58 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
दिल्ली-एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, गर्मी और उमस से मिली राहत          हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत गिरने की वजह से अब तक सेना के 6 जवानों सहित सात लोगों की मौत           भारतीय क्रिकेट टीम के अंदर सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टीम दो खेमों में बंट गई है          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          अयोध्या केस मध्यस्थता पैनल 18 जुलाई को पेश करे रिपोर्ट, सुप्रीम कोर्ट का निर्देश          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | उत्तराखंड | उत्तराखंड में पेड़ों पर लगे बिजली के तार,विज्ञापन बोर्डों और कीलों को तुरंत हटाए-नैनीताल हाईकोर्ट

उत्तराखंड में पेड़ों पर लगे बिजली के तार,विज्ञापन बोर्डों और कीलों को तुरंत हटाए-नैनीताल हाईकोर्ट


नैनीताल हाईकोर्ट ने एक याचिका पर सुनवाई करते हुए प्रदेश के सभी पेड़ों से विज्ञापन बोर्ड और कीलों को हटवाने के आदेश दिए हैं। उत्तराखंड के पेड़ों में बिजली के तार समेत विज्ञापन बोर्ड लगाने का मामला नैनीताल हाईकोर्ट की शरण में पहुंच गया है। मामले को गंभीरता से लेते हुए नैनीताल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रमेश रंगनाथन और न्यायाधीश आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ ने कुमाऊं कमिश्नर और गढ़वाल कमिश्नर को आदेश दिए हैं कि दो महीने के भीतर प्रदेश के पेड़ों से विज्ञापन बिजली के तार समेत पेड़ों में गाड़ी गई किले हटाए।

हाईकोर्ट ने कमिश्नर गढ़वाल और कुमाऊं को आदेश दिए हैं की पेड़ों को नुकसान पहुंचाने वाले लोगों के विरुद्ध वृक्ष संरक्षण अधिनियम और उत्तराखंड सार्वजनिक संपत्ति संरक्षण अधिनियम 2003 के अंतर्गत मुकदमा भी दर्ज करवाएं। वहीं कोर्ट ने प्रदेश के सभी डीएम को आदेश दिए हैं कि वो किसी भी स्थिति में पेड़ों में बिजली की तार और विज्ञापन ना लगने दें जिसके लिए वह खुद मॉनिटरिंग भी करेंगे।

मामले को गंभीरता से लेते हुए हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने प्रदेश के सभी सरकारी विभागों को आदेश दिए हैं कि उनके द्वारा लगाए गए सभी विज्ञापन वो खुद दो महीने के भीतर हटा ले।

आपको बता दें कि हल्द्वानी निवासी अमित खोलिया ने नैनीताल हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा है कि लोगों ने प्रदेश भर के पेड़ों में विज्ञापन बिजली के तार समय किले लगाई दी हैं। जिनसे पर्यावरण को क्षति हो रही है, लिहाजा प्रदेश के पेड़ों से बिजली के तार, व्यवसायिक विज्ञापन ओर किलो को हटाए। जिसके लिए वह लंबे समय से प्रदेश के अधिकारियों को बोल रहे थे। लेकिन उनकी किसी ने नहीं सुनी जिसके बाद उनको अंत में हाईकोर्ट की शरण में आना पड़ा। जहां गुरूवार को इस मामले की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने कमिश्नर कुमाऊं और गढ़वाल को पेड़ों से हार्डिंग और बिजली की तार हटाने के आदेश दिए हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: