बृहस्पतिवार, 29 अक्टूबर 2020 | 07:38 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशवासियों से अपील,सैनिक के नाम जलाएं एक दीया          विजयदशमी के पावन पर्व पर बद्री-केदार,गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने की तिथि का ऐलान          स्वास्थ्य मंत्रालय की देश वासियों से अपील,त्योहारों के मौसम में कोरोना को लेकर बरतें सावधानी          दिवाली से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को मोदी सरकार का तोहफा,3737 करोड़ रुपये के बोनस का भुगतान तुरंत           भारत दौरे से पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री का बड़ा बयान लद्दाख में चीन भारत पर डाल रहा है सैन्‍य दबाव          उत्तराखंड में चिन्हित रेलवे क्रॉसिंगों पर 50 प्रतिशत धनराशि केन्द्रीय सड़क अवस्थापना निधि से की जाएगी          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | हरिद्वार कुंभ के लिये सरकार ने उठाया बड़ा कदम..

हरिद्वार कुंभ के लिये सरकार ने उठाया बड़ा कदम..


15 अक्टूबर की आधी रात से गंगनहर को बंद कर दिया गया। अब 25 नवंबर को गंगनहर में पानी छोड़ा जाएगा। उत्तर प्रदेश सरकार ने इस बार दशहरा से 10 दिन पहले नहरबंदी कर दी। हरिद्वार में लंबे समय से महाकुंभ कार्य गंगा बंदी न होने के चलते अटके हुए थे। मेला प्रशासन और जिला प्रशासन के अनुरोध पर उत्तर प्रदेश सरकार समय से पूर्व ही नहरबंदी का निर्णय लिया। उत्तराखंड सिंचाई विभाग घाटों का निर्माण कार्य शुरू करेगा। वहीं एनएचएआई भी हाईवे पर बिल पुल के पास निर्माणाधीन पुल का निर्माण कार्य कर देगा।दोनों विभागों को काम निपटाने के लिए एक माह का समय मिलेगा। हरिद्वार में महाकुंभ के आयोजन के अब तीन माह शेष बचे हैं। नहर बंदी होने से महाकुंभ कार्य एक बार फिर रफ्तार पकड़ेंगे। मेलाधिकारी दीपक रावत ने सभी अधिकारियों को समय पर सभी निर्माण कार्य पूरा करने के निर्देश दिए थे।इनमें सात गंगा घाट और हरिद्वार-देहरादून हाईवे पर केबिल पुल के पास निर्माणाधीन पुल भी शामिल था, लेकिन चार घाटों और पुल के निर्माण के लिए नहर बंदी बहुत जरूरी थी। इसलिये इसे बंद किया गया है। उम्मीद की जा रही है कि, बहुत जल्द कुंभ मेले का कार्य पूरे हो जाएगं।

 

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: