रविवार, 20 अक्टूबर 2019 | 05:07 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
नए चीफ जस्टिस के लिए सीजेआई रंजन गोगोई ने जस्टिस एस ए बोबडे के नाम की सिफारिश की          हरियाणा विधानसभा की सभी 80 सीटों के लिए 21 अक्टूबर को मतदान          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          कांग्रेस पार्टी का बड़ा एलान, जम्मू-कश्मीर में नहीं लड़ेंगे BDS चुनाव          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           भारतीय सेना एलओसी पार करने से हिचकेगी नहीं,पाकिस्तान को आर्मी चीफ बिपिन रावत की चेतावनी          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | महाकुंभ 2021 को लेकर हरिद्वार में रेलवे की तैयारी शुरू

महाकुंभ 2021 को लेकर हरिद्वार में रेलवे की तैयारी शुरू


हरिद्वार में आयोजित होने वाले 2021 महाकुम्भ मेले को लेकर रेलवे प्रशासन ने भी तैयारी शुरू कर दी है। प्रयागराज में सकुशल संपन्न हुए कुम्भ मेले की तर्ज पर हरिद्वार कुम्भ में भी रेलवे अपनी बेहतर सेवाएं देगा।  सी क्रम नार्थ सेंटर रेलवे के उप महाप्रबंधक अरुण मालिक हरिद्वार पहुँचे जहाँ उन्होंने हरिद्वार रेलवे स्टेशन का निरिक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। निरिक्षण के बाद उन्होंने अधीनस्थ अधिकारियो के साथ व्यवस्थाओं में सुधार को लेकर चर्चा भी की। इस दौरान उनके साथ मुरादाबाद रेल मंडल के एडीआरएम अश्वनी कुमार, डीसीएम रेखा शर्मा सहित कई रेल अधिकारी मौजूद थे।

 उप महाप्रबंधक अरुण मालिक ने कहा कि प्रयागराज कुम्भ की तर्ज पर हरिद्वार में भी रेलवे द्वारा चाक चौबंद व्यवस्थाएं की जाएगी। प्रयागराज कुम्भ सफल रहा, प्रयागराज कुम्भ से मिले अनुभव के आधार पर हमने हरिद्वार कुम्भ के लिए बेहतर कार्य योजना बनायी है। जिन्हें समय से उसे पूरा किया जाएगा। 

श्री मलिक ने कहा कि कुंभ मेले को लेकर हर बार अलग से ट्रेनें चलाई जाती है। इस बार भी अलग से ट्रेनों की व्यवस्था की जाएगी जिस से हरिद्वार आने वाले यात्रियों को किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े।

 कुंभ अर्धकुंभ और जितने भी बड़े मेले होते हैं उसमें रेलवे की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है क्योंकि हरिद्वार आने वाले लाखों की तादाद में श्रद्धालु ट्रेनों से ही सफर करते हैं। अब रेलवे इन यात्रियों की सुविधा के लिए पूरे इंतजाम करने की बात कर रहा है,और किसी भी प्रकार की यात्रियों को परेशानी ना हो इसको लेकर व्यवस्थाएं दुरुस्त करने में लग गया है।

कुम्भ मेला हिन्दू धर्म का एक महत्त्वपूर्ण पर्व है| कुम्भ मेला भारत में सिर्फ परम्परा मात्र एक मेले के रूप में नहीं , बल्कि उत्सव के रूप में भी मनाया जाता है | यह एक ऐसा प्रसिद्ध मेला है , जहाँ लोग श्रद्धालु के रूप में गंगा नदी में डुबकी लगाते हुए नज़र आते है | यह एक ऐसा पर्व है जो हिन्दू धर्म के सबसे महत्वपूर्ण पर्व में से एक है । कुम्भ मेला सिर्फ पौराणिक इतिहास के साथ पर्व स्थलों के कारण भी काफी प्रसिद्ध है | कुम्भ मेले के सम्बन्ध में अनेक पौराणिक एवम् लोक प्रचलित कथाएँ है , लेकिन सबसे पुरानी एवम् मान्यतानुसार सही कही जाने वाली कथा “समुन्द्र मंथन” से जुडी है | कुम्भ का संस्कृत में अर्थ है –“कलश” , ज्योतिष शास्त्र में कुम्भ राशि का भी यही चिन्ह है |
हिन्दू धर्म में कुम्भ का पर्व हर 12 वर्ष के अंतराल पर चारो स्थानों में से किसी एक पवित्र नदी के तट पर मनाया जाता है | हरिद्वार में  गंगा, उज्जैन में शिप्रा, नासिक में गोदावरी और इलाहाबाद में गंगा , यमुना और सरस्वती मिलती है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: