सोमवार, 24 फ़रवरी 2020 | 07:56 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय ने गांधी को महात्मा की उपाधि प्रदान की थी-डॉ.निशंक

गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय ने गांधी को महात्मा की उपाधि प्रदान की थी-डॉ.निशंक


केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने ने कहा कि गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय का गौरवशाली इतिहास रहा है। इसी विश्वविद्यालय ने गांधी को महात्मा की उपाधि प्रदान की थी। उन्होंने गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय की उन्नति और विकास के लिए अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) के खजाने खोल दिए जाने का भी भरोसा दिलाया।

डाक्टर ‘निशंक’ गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी संकाय में छात्रावास के शिलान्यास समारोह में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे। उन्होंने वेद,उपनिषद और पुराणों को विज्ञान से जोड़कर अनुसंधान के कार्य को आगे बढ़ाने का आह्वान किया। उन्होंने वास्तु शास्त्र और विज्ञान का समन्वय कर नए शोध किए जाने की बात कही। कहा कि देश में काशी विश्वविद्यालय के बाद गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय में विशाल पुस्तकालय है।
समारोह की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. सत्यपाल सिंह ने की। उन्होंने डॉ. ‘निशंक’ से स्व वित्त पोषित विभागों के लिए 21 करोड़ रुपये के अनुदान का भी आग्रह किया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रूप किशोर शास्त्री ने कहा कि आज छात्रावास का शिलान्यास हो रहा है। यह विश्वविद्यालय की प्रगति में बड़ा कदम है। उन्होंने विश्वविद्यालय में प्लास्टिक बैन कर दिए जाने की भी जानकारी दी। कार्यक्रम का संचालन प्रो. पंकज मदान किया। मौके पर विश्वविद्यालय के कुल सचिव प्रो. दिनेश चंद्र भट्ट, एआईसीटीई के सलाहकार प्रो. दिलीप मारखेडे, विधायक आदेश चौहान, पूर्व मेयर मनोज गर्ग, ओम प्रकाश जमदग्नि, प्रो. वीके शर्मा, प्रो. महावीर अग्रवाल, प्रो. आरसी दुबे, प्रो. एमआर वर्मा, प्रो. पीसी जोशी, प्रो. ईश्वर भारद्वाज, प्रो. आरकेएस डागर, प्रो. प्रभात कुमार, प्रो. सोमदेव शतांशु, प्रो. ब्रह्मदेव, प्रो. सत्यदेव निगमालंकार, प्रो. नमिता जोशी, प्रो. दिनेशचंद्र शास्त्री, डॉ. श्वेतांक आर्य, डॉ. सुनील पंवार, डॉ. धर्मेंद्र बालियान, उत्तराखंड आर्य प्रतिनिधि सभा के प्रवक्ता डॉ. जयवीर मलिक, पूर्व अध्यक्ष विक्रम भुल्लर आदि मौजूद थे।
 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: