बुधवार, 20 नवंबर 2019 | 11:53 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
स्वर कोकिला लता मंगेशकर की हालत नाजुक, देश भर दुआओं का दौर जारी           महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश, मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी          अयोध्या में ही मस्जिद निर्माण के लिए दी जाएगी जमीन          सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन पर रामलला का हक माना          कोर्ट ने कहा कि पुरातत्व विभाग की खोज को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता          कोर्ट ने कहा,विवादित जमीन के नीचे एक ढांचा था और यह इस्लामिक ढांचा नहीं था          कोर्ट के फैसले में ASI का हवाला देते हुए कहा गया कि बाबरी मस्जिद का निर्माण किसी खाली जगह पर नहीं किया गया था          अयोध्या पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, बनेगा राम मंदिर, मस्जिद के लिए अलग जगह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | विचार | महान व्यक्तित्व स्वामी विवेकानंद जी के महान विचार

महान व्यक्तित्व स्वामी विवेकानंद जी के महान विचार


गणेश कुमावत

भारत का उदय और उजागर करने वाले महान व्यक्तित्व स्वामी विवेकानंद जी के महान चरित्र को अपने जीवन में जरूर उतारना चाहिए।

आज के नवयुवक जो भारतीय संस्कृति समझने की भूल कर रहे है। आज के शिक्षित भारतीय युवक अपने पिता, अपने पूर्वजों, अपने इतिहास एवं अपनी संस्कृति से घृणा करने लगते है। यहाँ तक की पवित्र वेदों,  पवित्र गीता को थोथा एवं झूठा समझते है। वही दूसरी ओर अपने अतीत, अपनी संस्कृति पर गर्व करने के बदले वह उससे ही घृणा करने लगते है और विदेशी संस्कृति को अपनाकर,  अपने आप पर गर्व महसूस करते है।

यह जानकर बड़ा अपसोस होता है कि जिस देश में गर्व से कहा जाता है कि महान व्यक्तित्व वाले महापुरुषों ने भारत माँ की गोद में जन्म लिया। दूसरी ओर हम भारत माता के पुत्र होते हुए भी स्वतन्त्र रूप से कुछ भी करने में असमर्थ रहते हैं।

विदेशी संस्कृति को अपनाकर, नौकरियों के लिए दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं। बी.ए.,  एम.ए., बी.एस.सी,  इंजिनियरिंग व मास्टर डिग्री तक प्राप्त करने के बाद भी युवक स्वतन्त्र रूप से अपनी आजीविका नहीं कमा पा रहा है।

आज के युग में कुछ परीक्षायें पास कर लेना या धुआंधार व्याख्यान देने की शक्ति प्राप्त कर लेना ही शिक्षित नहीं होती जबकि शिक्षा वह है जिससे लोगों के जीवन को सफल बनाया जा सके। पोथियाँ पढ़ लेना शिक्षा नहीं है। न ही अनेक प्रकार का ज्ञान प्राप्त करने का नाम शिक्षा है। शिक्षा तो वह है जिसकी सहायता से इच्छा शक्ति का वेग और स्फूर्ति अपने वश में हो जाये और जिससे अपने जीवन के उद्देश्य पूर्ण हो सकें।

 

आज के नवयुवकों को ऐसी शिक्षा चाहिए कि जो मनुष्य बुद्धि एवं दृष्टिकोण को विकसित कर सके। जो व्यक्ति में न्यायप्रियता, सत्यप्रियता एवं कार्य दक्षता को बढ़ा सके।

हमें ऐसी शिक्षा की जरूरत है जिससे चरित्र निर्माण हो, मानसिक शक्ति बढ़े,  बुद्धि विकसित हो और मनुष्य अपने पैरों पर खड़ा होना सीखे।

हमें ऐसी शिक्षा की आवश्यकता है जिससे की व्यक्ति अपनी आर्थिक जरूरत पूरी कर सके । ऐसी शिक्षा जो दूसरों के बारे में अच्छा सोच सके। जिससे अपने परिवार के साथ-साथ समाज व देश का गौरवान्वित कर सके।

अच्छे आदर्श और अच्छे भावों को काम में लाकर लाभ उठाना चाहिए, जिनसे वास्तविक मनुष्यत्व चरित्र और जीवन बन सके।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: