रविवार, 23 फ़रवरी 2020 | 02:00 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | सीएम रावत ने 21 अधिकारियों को प्रदान किए ‘मुख्यमंत्री उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार 2019’

सीएम रावत ने 21 अधिकारियों को प्रदान किए ‘मुख्यमंत्री उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार 2019’


मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने उत्तराखंड सचिवालय में राज्य में सुशासन के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान हेतु 21 अधिकारियों एवं कर्मचारियों को मुख्यमंत्री उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया।

‘‘मुख्यमंत्री उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार 2019‘‘  से सम्मानित अधिकारियों को बधाई देते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि नवोन्मेषी को अवसर दिए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि जो अधिकारी कर्मचारी अपने कार्य क्षेत्र में सराहनीय कार्य कर रहे हैं, समाज एवं अन्य कार्मिकों को भी इससे प्रेरणा मिलेगी।
मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी रूद्रप्रयाग मंगेश घिल्डियाल को अपने उत्कृष्ट कार्य एवं अपने कार्यक्षेत्र में अभिनव प्रयोगों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित होने पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि केदारनाथ में बहुत चुनौतियां हैं और उनकी टीम बहुत ही बेहतरी से कार्य कर रही है।
मुख्यमंत्री ने नवोन्मेषी लोगों के लिए आर्थिक सहायता हेतु एक कोष गठित करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य में बहुत से नवोन्मेषी प्रतिभा के धनी बच्चे हैं जिन्होंने नयी तकनीकों का विकास किया है, परन्तु आर्थिक कारणों से वो आगे नहीं बढ़ पाए। ऐसे लोगों के लिए एक कोष गठित किया जाएगा।
मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह ने सभी सम्मानित व्यक्तियों का स्वागत करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जी की प्रेरणा एवं मार्गदर्शन से स्थापित इस सम्मान की चयन प्रक्रिया में इस वर्ष परिवर्तन किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश भर में समस्त स्तरो में अधिकारी-कर्मचारीगण पूर्ण दक्षता से कार्य कर रहे हैं। बहुत सारे अभिनव प्रयोग कर रहे हैं। उनके कार्यों का शासन के बाहर की एक समिति द्वारा आंकलन किया गया है। इसके उपरान्त आवेदन द्वारा समिति के समक्ष प्रस्तुतिकरण किया गया। समिति द्वारा जिन लोगों को चयनित कर सूची शासन को दी गयी है। भारत सरकार द्वारा भी इसी प्रकार सेल्फ स्पोन्सर्ड प्रक्रिया को अपनाया गया है।
इस अवसर पर विधायक श्री हरबंश कपूर, श्री गणेश जोशी, श्री खजान दास, मेयर श्री सुनील उनियाल गामा, मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव श्री ओम प्रकाश, श्रीमती राधा रतूड़ी, प्रमुख सचिव मनीषा पंवार सहित शासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
जिन अधिकारियों को मुख्यमंत्री उत्कृष्टता एवं सुशासन पुरस्कार 2019 से  विभिन्न क्षेत्रों में सराहनीय कार्य के लिए सम्मानित किया गया है।
1.     डॉ. भूपिन्दर कौर औलख (आईएएस) - महिला सशक्तिकरण एवं समाज कल्याण की दिशा में किये गए महत्वपूर्ण कार्य, शिक्षा में नवोन्मेष एवं तकनीक का उपयोग।
2.     डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव (आईएएस) - देहरादून शहर को आधुनिक सुविधाओं से जोड़ने हेतु एवं स्मार्ट इन्फ्रास्ट्रक्चर की दिशा में किये गए महत्वपूर्ण प्रयासों के लिए।
3.     श्री मंगेश घिल्डियाल (आईएएस) - आपदा प्रबंधन के क्षेत्र में किए गए महत्वपूर्ण कार्य।
4.     श्री मयूर दीक्षित (आईएएस) - जल संचय एवं सरंक्षण में महत्वपूर्ण कार्य, कोसी पुनर्जनन एवं कृषि क्षेत्र में संवर्धन हेतु मोबाईल एग्रीक्लीनिक की पहल।
5.     डॉ. ललित नारायण मिश्रा (पीसीएस) - गंगा जी के महास्वच्छता अभियान हेतु महत्वपूर्ण कार्य, हर गंगे महा अभियान का संचालन।
6.     श्री पी.के. पात्रो (आईएफएस) - देहरादून चिड़ियाघर का विकास एवं सौन्दर्यीकरण तथ सुविधाओं के विस्तार हेतु निरन्तर प्रयास एवं कार्य।
7.     श्री दीप चंद्र आर्य (प्रभागीय वनाधिकारी)-जैव विविधता पार्क की स्थापना, उच्च स्थलीय औषधीय पौधों एवं जड़ी-बूटी का संरक्षण।
8.     श्री मोहित कुमार कोठारी (कार्यालय सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी) - केदारनाथ धाम पैदल यात्रा करने वाले यात्रियों के लिये ‘‘सोनप्रयाग शटल‘‘ सेवा प्रारम्भ।
9.     सुश्री विमि जोशी (सहायक परियोजना निदेशक, जिला ग्राम्य विकास अभिकरण) - जल स्रोतों का संचय एवं संवर्धन, वनीकरण एवं आजीविका संवर्धन हेतु किये गए महत्वपूर्ण प्रयास।
10.   डॉ. एस.के. झा (सी.एम.ओ. रूद्रप्रयाग) - ‘‘प्रोजेक्ट माँ‘‘ के अन्तर्गत उच्च जोखिम प्रसव के अन्तर्गत आने वाली महिलाओं का त्वरित उपचार।
11.   श्री एल.एस. दानू (डी.ई.ओ. माध्यमिक, रूद्रप्रयाग)- ‘‘लक्ष्य प्रोजेक्ट‘‘ के अन्तर्गत एक मोबाईल ऐप तथा वेब पोर्टल जिसमें अनेक छात्र-छात्राओं को निशुल्क कोचिंग उपलब्ध करायी गयी।
12.   श्री मनोज कुमार (अधिशासी अभियंता, रूद्रप्रयाग)- ऊर्जा के क्षेत्र में भारी बर्फबारी में सोनप्रयाग, गौरीकुंड एवं केदारनाथ धामों की विद्युत लाईन्स की मरम्मत सुचारू करायी गयी।
13.   प्रो. राजीव रतन (प्राचार्य, उच्च शिक्षा विभाग, रा.म.म.खानपुर, हरिद्वार) - छात्रों, प्राध्यापकों, कर्मचारियों एवं अभिभावकों को ऑनलाईन सर्विस से जोड़ने की दिशा में किये गए विभिन्न प्रयास।
14.   डॉ. शिव कुमार उपाध्याय (उप परियोजना निदेशक, यूडीडब्ल्यूडीपी, अल्मोड़ा) - पारम्परिक फसलों के प्रमाणित/आधारीय बीजों का कृषक फेडरेशन द्वारा उत्पादन।
15.   श्री कुशाल सिंह कोहली (जिला पूर्ति अधिकारी, रूद्रप्रयाग) - गरीब परिवारों को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अन्तर्गत निशुल्क गैस कनेक्शन।
16.   श्री के.एस. चौहान (उपनिदेशक, सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग) - उत्तराखण्ड न्यू फिल्म डेस्टिनेशन के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कार्य करने के लिए।
17.   श्री हरेन्द्र सिंह (अधिशासी अधिकारी, रूद्रप्रयाग) - स्वच्छता एवं सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट हेतु महत्वपूर्ण कार्य करने के लिए।
18.   श्री धीरज डिमरी (सहायक अभियंता, डीपीएमयू, रूद्रप्रयाग)- केदारनाथ पुनर्निर्माण के अन्तर्गत 380 मीटर लम्बाई में सुरक्षा दीवार का निर्माण।
19.   श्री मुकेश बहुगुणा (कनिष्ठ अभियंता, डीपीएमयू, रूद्रप्रयाग ) - केदारनाथ पुनर्निर्माण के अन्तर्गत 380 मीटर लम्बाई में सुरक्षा दीवार का निर्माण।
20.   श्री प्रदीप कुमार(अनुभाग अधिकारी, पी.डब्ल्यू.डी.) - सभी अनुभागीय कार्य हेतु सुचारू एवं समयबद्ध तरीके से किए गए कार्य।
21.   श्रीमती मीनाक्षी नौटियाल (उपनिरीक्षक, पुलिस) - महिला सुरक्षा एवं सशक्तिकरण के क्षेत्र में महिला हेल्पलाईन एवं अन्य गतिविधियों से सम्बन्धित महत्वपूर्ण कार्य
 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: