रविवार, 25 जुलाई 2021 | 12:01 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम पुष्कर धामी ने किया 179 करोड़ की 65 योजनाओं का लोकार्पण,शिलान्यास          मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने रुद्रपुर में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों की समीक्षा          कोरोना महामारी के बीच ओलंपिक गेम्स हुए शुरू          सीएम पुष्कर धामी ने कोविड-19 से बचाव के लिये उच्चाधिकारियों एवं जिलाधिकारियों के साथ की समीक्षा          उत्तराखंड में कांग्रेस का सियासी संकट खत्म,हरीश रावत होंगे मुख्यमंत्री का चेहरा          कोरोना संक्रमण के चलते आर्थिक मंदी से जूझ रहे चारधाम यात्रा व पर्यटन को उभारे के लिए धामी सरकार की 200 करोड़ रूपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा          प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत उत्तराखंड में 240 लाभार्थियों को दिया गया आवास कब्जा          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई         
होम | क्राइम | तहलका के पूर्व चीफ इन एडिटर तरुण तेजपाल रेप के मामले से हुए बरी

तहलका के पूर्व चीफ इन एडिटर तरुण तेजपाल रेप के मामले से हुए बरी


पत्रिका तहलका के पूर्व एडिटर तरुण तेजपाल को रेप के मामले से बरी हो गए हैं।तरुण तेजपाल पर ये मामला पिछले 8 साल से चल रहा है। आपको बता दें, साल 2013 में उनकी सहकर्मी ने उन पर लिफ्ट में यौन शोषण करने का आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराया था। जिसके बाद गोवा पुलिस ने फरवरी 2014 में  उनके खिलाफ 2846 पन्नों की चार्जशीट दायर करते हुए रेप का मामला दर्ज किया था।जिसके बाद तरुण तेजपाल ने बंबई उच्च न्यायालय  में जाकर मामला खारिज करने की अपील भी की थी। लेकिन कोर्ट ने उनकी अपील की खारिज कर दिया था। आज एक बार फिर से मामले की सुनवाई हुई जिसमें उन्हें बरी बार दिया गया। गोवा की फास्ट ट्रैक कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए तरुण तेजपाल को बड़ी राहत देते हुए रेप के मामले से आजाद कर दिया है। तेजपाल के खिलाफ दुष्कर्म के मामले में कोर्ट 27 अप्रैल को फैसला सुनाने वाली थी, लेकिन जज क्षमा जोशी ने फैसला 12 मई तक स्थगित कर दिया था। फिर 12 मई को फैसला 19 मई तक के लिए टाल दिया गया था। इसके बाद फिर 2 दिन के लिए टालते हुए 21 मई को फैसला सुनाने के लिए कहा था। कोर्ट का कहना था कि कोरोना महामारी के चलते स्टाफ की कमी है इसलिए फैसला टाला जा रहा है।
कोर्ट से बरी होने के आदेश के बाद तरुण तेजपाल ने कहा कि नवंबर 2013 में उन्हें एक महिला सहकर्मी ने यौन उत्पीड़न के झूठे मामले में फंसाया था और आज गोवा में अडिशनल सेशन जज की ट्रायल कोर्ट ने मुझे बरी कर दिया। रेप के मामले से बरी होने के बाद वह बेहद खुश हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: