बुधवार, 28 अक्टूबर 2020 | 11:45 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशवासियों से अपील,सैनिक के नाम जलाएं एक दीया          विजयदशमी के पावन पर्व पर बद्री-केदार,गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने की तिथि का ऐलान          स्वास्थ्य मंत्रालय की देश वासियों से अपील,त्योहारों के मौसम में कोरोना को लेकर बरतें सावधानी          दिवाली से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को मोदी सरकार का तोहफा,3737 करोड़ रुपये के बोनस का भुगतान तुरंत           भारत दौरे से पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री का बड़ा बयान लद्दाख में चीन भारत पर डाल रहा है सैन्‍य दबाव          उत्तराखंड में चिन्हित रेलवे क्रॉसिंगों पर 50 प्रतिशत धनराशि केन्द्रीय सड़क अवस्थापना निधि से की जाएगी          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | दमदार रहा गढ़वाली-कुमाउनी कक्षाओं का चौथा सप्ताह

दमदार रहा गढ़वाली-कुमाउनी कक्षाओं का चौथा सप्ताह


उत्तराखण्ड लोक भाषा साहित्य मंच दिल्ली, ‘उत्तराखण्ड एकतामंच दिल्ली’ ,’डीपीएमआई’  एवं ‘हिमालयन न्यूज’ के द्वारा 19 मई 2019 से दिल्ली सहित पूरे एनसीआर में लगभग 30  स्थानों पर गढ़वाली-कुमाउनी कक्षाएं चलाई जा रही हैं। प्रत्येक रविवार को सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक चलने वाली इन कक्षाओं में दिल्ली सहित पूरे एनसीआर के कई सेन्टर्स में बच्चे बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं। इसी तरह न्यू अशोक नगर, नरेला, लोनी रामपार्क, रोहिणी, त्रिलोकपुरी, लोदी रोड, मयूर विहार, गजियाबाद आदि सभी गढ़वाली-कुमाउनी कक्षाओं की शाखाओं के द्वारा लगातार चौथे सप्ताह भी पहाड़ी बोलियों को बचाने के लिए ग्रीष्मकालीन कक्षाओं का आयोजन किया गया। उत्तराखड़ी परम्परा को सुदृढ़ करने के इस महत्वपूर्ण कार्य में उत्तराखंड लोकभाषा साहित्य मंच दिल्ली और उत्तराखंड एकता मंच, डीपीएमआई का भी अहम योगदान मिल रहा है।  इन्ही के द्वारा कक्षाओं के संचालन हेतु उपयोगी प्रशिक्षण सामग्री भी निशुल्क प्रदान की जा रही है। इसके साथ ही बच्चे भी खूब बढ़-चढ़ के हिस्सा ले रहे हैं।इस तरह उत्तराखंडी नौनिहालों को अपनी बोली-भाषा और संस्कृति से जोड़ने का उद्देश्य बखूबी पूरा हो रहा है।    



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: