रविवार, 7 जून 2020 | 12:28 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | देश | जनरल बिपिन रावत पहुंचे भारत-चीन सीमा से सटे गांव मलारी,ग्रामीणों और जवानों को दी दीपावली की शुभकामना

जनरल बिपिन रावत पहुंचे भारत-चीन सीमा से सटे गांव मलारी,ग्रामीणों और जवानों को दी दीपावली की शुभकामना


थल सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने चमोली जिले में चीन सीमा पर स्थिति अग्रिम चौकियों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने जवानों के साथ समय बिताया और स्थानीय लोगों से भी मुलाकात की। नीती घाटी में चीनी सैनिकों की घुसपैठ के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में चीन के साथ किसी तरह के टकराव की बात नहीं है। 

थल सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत हेलीकॉप्टर से सीधे मलारी पहुंचे। यहां उन्होंने सेना के 'प्लांटेशन फॉर लाइवलीहुड' कार्यक्रम में शिरकत की। स्थानीय लोगों से मुलाकात कर समारोह में अखरोट और चिलगोजा के पौधों का रोपण किया गया। इस कार्यक्रम के तहत सीमावर्ती क्षेत्र में स्थानीय लोगों की मदद से एक लाख पौधों का रोपण किया जाना है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि इस प्रोग्राम से क्षेत्र में पर्यावरण का संरक्षण तो होगा ही, स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिल सकेगा।

इस दौरान स्थानीय लोगों ने जनरल बिपिन रावत से मोबाइल नेटवर्क न होने की समस्या उठाई। जनरल रावत ने कहा कि इस दिशा में हरसंभव कोशिश की जाएगी। उन्होंने साफ किया कि संचार नेटवर्क न होने की वजह सेना नहीं है। उन्होंने कहा कि सेना सीमांत क्षेत्रों के विकास के लिए लगातार काम कर रही है। जनरल रावत ने जवानों और स्थानीय लोगों को दीपावली की शुभकामनाएं भी दीं।

सीमांत गांव मलारी पहुंचने पर ग्रामीणों, पूर्व सैनिकों ने जनरल रावत का भव्य स्वागत किया। इस दौरान केंद्रीय कमांड के जीसीओ ले.जनरल आईएस घुम्मन, यूपी एरिया के जीओसी ले.जनरल सीपी मोहंती, मेजर जनरल डीए चतुर्वेदी, नौ स्वतंत्र पर्वतीय ब्रिगेड के ग्रुप कमांडर ब्रिगेडियर एके पुंडीर, 127 ईको बटालियन के कमांडिंग आफिसर कर्नल वैध, पूर्व सैनिक कोआर्डिनेटर भागवत थपलियाल, पूर्व कैप्टन कुशाल सिंह, पूर्व प्रधान बचन सिंह राणा सहित अनेक लोग उपस्थित थे।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: