शनिवार, 29 जनवरी 2022 | 06:23 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम योगी ने प्रयागराज में अतीक से मुक्त भूमि पर किया शिलान्यास, बोले- दीवारों से निकल रहा गरीबों का पैसा          राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने पतंजलि विश्वविद्यालय,हरिद्वार के प्रथम दीक्षांत समारोह में गोल्ड मेडलिस्ट विद्यार्थियों को प्रदान की उपाधि          ओमीक्रॉन कोरोना वेरिएंट की भारत में हुई एंट्री          वर्ष 2025 तक उत्तराखण्ड बनेगा हर क्षेत्र में अग्रणी राज्यःसीएम पुष्कर सिंह धामी          सीएम पुष्कर धामी ने राइजिंग उत्तराखण्ड कार्यक्रम में किया प्रतिभाग,गायक जुबिन नौटियाल को किया सम्मान          1 दिसंबर से सउदी अरब जा सकेंगे भारतीय          उत्तराखंड में कोरोना काल में सराहनीय कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि          T20 रैंकिंग में रोहित शर्मा को हुआ फायदा          15 दिसम्बर तक स्वरोजगार योजनाओं के तहत लोन के निर्धारित लक्ष्य को किए जाने के सीएम धामी ने दिए निर्देश          सीएम योगी आदित्यनाथ एवं सीएम पुष्कर धामी की लखनऊ में हुई बैठक में निपटा उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड का 21 वर्ष पुराना विवाद         
होम | क्राइम | मूकबधिर बच्ची का गैंगरेप करने के बाद प्राइवेट पार्ट में डाला सरीया

मूकबधिर बच्ची का गैंगरेप करने के बाद प्राइवेट पार्ट में डाला सरीया


राजस्थान के अलवर से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आयी हैं। अलवर में एक मुकबधिर 14  साल की लड़की के साथ गैंग करने के बाद दरिंदों ने उसके प्राइवेट पार्ट में नुकीली चीज डाल कर घायल कर दिया। पीड़ित नाबालिग बोल नहीं पाती। सुनने में भी दिक्कत है। फिलहाल जयपुर में इलाज चल रहा है। बुधवार को ऑपरेशन के बाद मंत्री और अफसर मिलने पहुंचे। उसकी हालत देखकर वह भी सहम गए। इस दरिंदगी के बाद अपनी पीड़ा बताने के लिए उसके पास सिर्फ दो शब्दों का ही सहारा है। वो है- 'मां' और 'पा'। मूकबधिर बच्ची इससे ज्यादा बोल ही नहीं पाती। दरिंदों ने मूकबधिर से गैंगरेप ही नहीं किया, बल्कि उसके प्राइवेट पार्ट में भी धारदार हथियार से गहरा घाव कर दिया। करीब 5 डॉक्टरों ने ऑपरेशन कर बच्ची की जान बचाई है। पहले अलवर और फिर जयपुर में कई यूनिट खून चढ़ाया गया है।पीड़िता के माता-पिता मजदूर हैं। मूकबधिर बेटी के अलावा उन्हें एक बेटी और एक बेटा और है। ग्रामीणों ने बताया कि पीड़िता मंगलवार दोपहर करीब 12 बजे खेत के कच्चे रास्ते से होती हुई सड़क किनारे पहुंची थी। उसके बाद उसे किसी ने नहीं देखा। इसके बाद 11 जनवरी की रात को गैंगरेप की जानकारी मिली। गैंगरेप करने के बाद दरिंद मासूम को घायल स्थिति में खेत में फेंक गए थे। इस घटना की जांच के लिए गहलोत सरकार ने एसआईटी गठन कर दी है।

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: