रविवार, 21 जुलाई 2019 | 09:09 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
81 साल की उम्र में शीला दीक्षित का निघन          शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं थी          दिल्ली की सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का दिल्ली में निधन          इसरो ने किया ऐलान, अब 22 जुलाई को लॉन्च होगा चंद्रयान-2          कुलभूषण जाधव मामले पर पीएम मोदी ने जताई खुशी कहा- ये सच्चाई और न्याय की जीत है          भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी राफेल-सुखोई की जोड़ी,एयर मार्शल भदौरिया          कुलभूषण जाधव केस, ICJ में भारत की बड़ी जीत, फांसी की सजा पर रोक, पाकिस्तान को सजा की समीक्षा का आदेश          गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- सभी घुसपैठियों और अवैध प्रवासियों को करेंगे देश से बाहर          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | धर्म-अध्यात्म | गायत्री मंत्र के जाप से छूमंतर हो जाती है कई भंयकर बीमारियां

गायत्री मंत्र के जाप से छूमंतर हो जाती है कई भंयकर बीमारियां


 

ऊँ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्।

गायत्री मंत्र ‍हिंदू धर्म में बेहद शुभ माना गया है। इसका जाप करने से आपको मानसिक शांति के साथ-साथ अच्‍छी सेहत भी मिल सकती है। ज्‍यादातर लोगों का मानना है कि गायत्री मंत्र बोलने से घर में सब शुभ होता है। बेशक ऐसा होता होगा। मगर गायत्री मंत्र सुख के साथ आपको अच्‍छी सेहत भी देता है। यह बात बहुत कम लोग जानते हैं। चार वेदों और 24 शब्‍दांशों से मिल कर बना गायत्री मंत्र आपके शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर बहुत अच्‍छा प्रभाव डालता है। जिससे आपकी कई बीमारियां छूमंतर हो जाती है।

गायत्री मंत्र को लेकर हुए कई शोधों के मुताबिक गायत्री मंत्र के उच्‍चारण से डिप्रेशन जैसी बीमारी भी नहीं होती है। यह मंत्र वेगस नर्व्‍स के फंक्‍शन को स्टिम्‍यूलेट करता है। जब किसी व्‍यक्ति को अवसाद की समस्‍या हो जाती है तो मेडिकल इलाज के दौरान उसकी इसी नर्व्‍स को स्टिम्‍यूलेट करने का ट्रीटमेंट चलता है। इस मंत्र की वाइब्रेशन बॉडी से एडोरफिंस और रिलैक्सिंग हार्मोंस को रिलीज करती है जिससे डिप्रेशन को दूर किया जा सकता है।

आज की व्‍यस्‍त जीवन शैली में हर कोई तनाव से घिर चुका है। एक शोध के अनुसार महिलाओं में तनाव ज्‍यादा है क्‍योंकि महिलाएं दोहरी जिम्‍मेदारियां निभा रही हैं । अगर कभी उन्‍हें घर के काम का तनाव होता तो कभी ऑफिस के काम का,ऐसे में उनका मन कभी शांत नहीं रहता है। अगर आपके साथ भी ऐसा है तो आपको गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए। गायत्री मंत्र की शुरुआत में ही ओम शब्‍द होता है। इसे बोलने से जो वाइब्रेशन होंठों, जीभ और सिर तक पहुंचती है वह दिमाग को शांत करती है। जिससे ब्रेन रिलैक्सिंग हार्मोंस (ब्रेन रिलैक्सिंग हार्मोंस को कैसे रिलीज करता हैै?)को रिलीज करता है। इतना ही नहीं गायत्री मंत्र में इस्‍तेमाल किए गए शब्‍दों को उच्चारण से कॉन्‍सट्रेशन पावर बढ़ती है। 

गायत्री मंत्र के उच्‍चारण से जीभ, होंठ, वोकल कॉर्ड पर प्रेशर पड़ता है। जिसे इसकी वाइब्रेशन ब्रेन तक पहुंचती हैं और ब्रेन hypothalamus ग्‍लैंड्स को स्‍टीमयूलेट करता है। यह ग्‍लैंड कई बॉडी फंक्‍शन को कंट्रोल करती है और इसी के साथ इम्युनिटी को भी रेग्‍यूलेट करती है। गायत्री मंत्र के उच्‍चारण से बॉडी और भी अच्‍छी तरह से सारे फंक्‍शंस कर सकती है। यह ग्‍लैंड ब्रेन से हैप्‍पी हार्मोंस को रिलीज करने में भी काफी इफेक्टिव होती है। यही हार्मोंन बॉडी के लिए सबसे ज्‍यादा इफेक्टिव होता है। इसलिए खुश रहना है तो आपको ये काम रोज करना चाहिए। यानि आपके लिए जरूरी है कि रोज गायत्री मंत्र का उच्‍चारण करें। इसके अलावा शरीर में मौजूद सारे चक्र भी गायत्री मंत्र के उच्‍चारण से एक्टिव हो जाते हैं इससे आपकी बॉडी को एनर्जी मिलती है और शरीर बीमारियों से मुक्‍त रहता है। 

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ योगा में छपी एक रिचर्स के मुताबिक गाय‍त्री मंत्र के उच्‍चारण से जो वाइब्रेशन होती है उससे चेहरे और सिर पर मौजूद तीना चक्र क्रमश: थर्ड आई, थ्रोट और क्राउन चक्र सबसे पहले एक्टिव होते हैं। यह तीन चक्र मनुष्‍य को कॉन्‍सनट्रेशन बढ़ाने में मदद करते हैं क्‍योंकि यह चक्र ब्रेन और पेनियल ग्‍लैंड, आंखों, साइनस, लोवर हेड, पि‍ट्यूटरी ग्‍लैंउ और थॉयराइड ग्‍लैंड से जुड़ा होते हैं। इसलिए यह फोकस करने और चीजों को याद रखने में मदद करते हैं। 

इस मंत्र के उच्‍चारण के समय सांस को कंट्रोल करना बेहद जरूरी होता है। इससे लंग इनफैक्‍शन भी नहीं होता। इसके अलावा आपकी सांस लेने की प्रक्रिया में भी सुधार होता है। डीप ब्रीदिंग एक्‍सरसाइज से पूरी बॉडी में ऑक्सिीजन भी सही मात्रा में पहुंचती है और आप स्‍वस्‍थ बनी रहती हैं। 

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में छपी एक स्‍टडी के मुताबिक गायत्री मंत्र केवल लंग्‍स की सेहत के लिए ही अच्‍छा नहीं होता बल्कि यह हार्ट बीट्स को सिक्रोनाइज और रेगयूजराइज भी करता है। इससे आप को दिल से जुड़ी बीमारी होने की संभावनाएं कम हो जाती हैं। 

इस मंत्र के उच्‍चारण से चेहरे पर मौजूद वाइटल प्‍वाइंट्स स्टिम्‍यूलेट हो जाते हैं। जिससे चेहरे पर ब्‍लड का बहाव तेज हो जाता है और त्‍वचा में मौजूद टॉक्सिन निकल जाते हैं। इसकी अलावा डीप ब्रीदिंग से त्‍वचा को ज्‍यादा ऑक्‍सीजन मिलता है, जो आपकी त्‍वचा को यंगर और ग्‍लोइंग दिखाता है। 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: