बृहस्पतिवार, 17 अक्टूबर 2019 | 06:18 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          कांग्रेस पार्टी का बड़ा एलान, जम्मू-कश्मीर में नहीं लड़ेंगे BDS चुनाव          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           भारतीय सेना एलओसी पार करने से हिचकेगी नहीं,पाकिस्तान को आर्मी चीफ बिपिन रावत की चेतावनी          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | दुनिया | आंतकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा,जी-20 शिखर सम्मेलन में बोले मोदी

आंतकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा,जी-20 शिखर सम्मेलन में बोले मोदी


आंतकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा,जी-20 शिखर सम्मेलन में बोले मोदी

जापान के ओसाका शहर में जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर ब्रिक्स नेताओं की अनौपचारिक बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आतंकवाद और जातिवाद का किसी भी जरिए से समर्थन बंद करने की जरूरत है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा है। यह न सिर्फ बेगुनाहों की हत्या करता है बल्कि आर्थिक विकास और सामाजिक स्थिरता को भी बुरी तरह प्रभावित करता है। 

मोदी ने ब्राजील का राष्ट्रपति चुने जाने पर जेयर बोल्सोनारो को बधाई दी और ब्रिक्स परिवार में उनका स्वागत किया। ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन के इतर ब्रिक्स ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका नेताओं की मुलाकात के दौरान उन्होंने दक्षिण अफ्रीका का राष्ट्रपति चुने जाने पर सिरिल रामफोसा को भी बधाई दी। मोदी ने विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) को मजबूत बनाने, संरक्षणवाद से लड़ने, ऊर्जा सुरक्षा सुनिश्चित करने और साथ मिलकर आतंकवाद से लड़ने की जरूरत पर बल दिया। 

 भारत ने अन्य ब्रिक्स राष्ट्रों के साथ मिलकर सभी देशों से आतंकवादी नेटवर्कों के वित्तपोषण और अपने भूभाग से आतंकवादी गतिविधियां चलाए जाने को रोकने को कहा। उन्होंने आतंकवाद और अवैध वित्तीय प्रवाह से लड़ने का संकल्प जताया।

जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर ब्रिक्स के नेताओं की अनौपचारिक बैठक के बाद संयुक्त वक्तव्य में इन देशों ने आतंकवादी उद्देश्यों के लिए इंटरनेट के इस्तेमाल से लड़ने के प्रति अपनी वचनबद्धता दोहराई। उन्होंने कहा कि हम ब्रिक्स देशों समेत जहां कहीं भी आतंकवादी हमला हो और चाहे जो भी करे इसकी पुरजोर निंदा करते हैं। हम आतंकवाद के सभी स्वरूपों की निंदा करते हैं। हम सब को आतंकवाद के खात्मे के लिए एक साथ मिलकर विकास के लिए आगे बढ़ना होगा।

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: