रविवार, 21 जुलाई 2019 | 08:49 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
81 साल की उम्र में शीला दीक्षित का निघन          शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं थी          दिल्ली की सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का दिल्ली में निधन          इसरो ने किया ऐलान, अब 22 जुलाई को लॉन्च होगा चंद्रयान-2          कुलभूषण जाधव मामले पर पीएम मोदी ने जताई खुशी कहा- ये सच्चाई और न्याय की जीत है          भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी राफेल-सुखोई की जोड़ी,एयर मार्शल भदौरिया          कुलभूषण जाधव केस, ICJ में भारत की बड़ी जीत, फांसी की सजा पर रोक, पाकिस्तान को सजा की समीक्षा का आदेश          गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- सभी घुसपैठियों और अवैध प्रवासियों को करेंगे देश से बाहर          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | दुनिया | आंतकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा,जी-20 शिखर सम्मेलन में बोले मोदी

आंतकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा,जी-20 शिखर सम्मेलन में बोले मोदी


आंतकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा,जी-20 शिखर सम्मेलन में बोले मोदी

जापान के ओसाका शहर में जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर ब्रिक्स नेताओं की अनौपचारिक बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आतंकवाद और जातिवाद का किसी भी जरिए से समर्थन बंद करने की जरूरत है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद मानवता के लिए सबसे बड़ा खतरा है। यह न सिर्फ बेगुनाहों की हत्या करता है बल्कि आर्थिक विकास और सामाजिक स्थिरता को भी बुरी तरह प्रभावित करता है। 

मोदी ने ब्राजील का राष्ट्रपति चुने जाने पर जेयर बोल्सोनारो को बधाई दी और ब्रिक्स परिवार में उनका स्वागत किया। ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन के इतर ब्रिक्स ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका नेताओं की मुलाकात के दौरान उन्होंने दक्षिण अफ्रीका का राष्ट्रपति चुने जाने पर सिरिल रामफोसा को भी बधाई दी। मोदी ने विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) को मजबूत बनाने, संरक्षणवाद से लड़ने, ऊर्जा सुरक्षा सुनिश्चित करने और साथ मिलकर आतंकवाद से लड़ने की जरूरत पर बल दिया। 

 भारत ने अन्य ब्रिक्स राष्ट्रों के साथ मिलकर सभी देशों से आतंकवादी नेटवर्कों के वित्तपोषण और अपने भूभाग से आतंकवादी गतिविधियां चलाए जाने को रोकने को कहा। उन्होंने आतंकवाद और अवैध वित्तीय प्रवाह से लड़ने का संकल्प जताया।

जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर ब्रिक्स के नेताओं की अनौपचारिक बैठक के बाद संयुक्त वक्तव्य में इन देशों ने आतंकवादी उद्देश्यों के लिए इंटरनेट के इस्तेमाल से लड़ने के प्रति अपनी वचनबद्धता दोहराई। उन्होंने कहा कि हम ब्रिक्स देशों समेत जहां कहीं भी आतंकवादी हमला हो और चाहे जो भी करे इसकी पुरजोर निंदा करते हैं। हम आतंकवाद के सभी स्वरूपों की निंदा करते हैं। हम सब को आतंकवाद के खात्मे के लिए एक साथ मिलकर विकास के लिए आगे बढ़ना होगा।

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: