सोमवार, 24 फ़रवरी 2020 | 07:52 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी रंजीत सिंह वर्मा को श्रद्धांजलि

उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी रंजीत सिंह वर्मा को श्रद्धांजलि


 

उत्तर प्रदेश के दौरान मसूरी विधानसभा सीट से विधायक रहे राज्य आंदोलनकारी रंजीत सिंह वर्मा का निधन हो गया। वह 84 वर्ष के थे। कुशल राजनीतिज्ञ और जन नेता के निधन से राज्य आंदोलनकारियों, राजनेताओं, किसानों और उनको जानने वाले हर वर्ग में शोक की लहर है। मंगलवार को राजेंद्रनगर स्थित निवास से उनकी अंतिम यात्रा लक्खीबाग श्मशान घाट के लिए निकलेगी।

रंजीत सिंह वर्मा उत्तर प्रदेश के समय में मसूरी विधानसभा सीट से दो बार विधायक रहे। पहली बार वह जनता पार्टी से विधायक चुने गए। जनता पार्टी का वजूद खत्म हुआ तो वह 1989 में निर्दलीय विधायक बने। उस समय मसूरी विधानसभा देहरादून शहर से लेकर रायपुर, थानो, कैंट तक फैली थी।

विधायक रहते हुए वह हमेशा जनता के हितों को लेकर संघर्षरत रहे। इसके अलावा किसानों, मजदूरों और व्यापारियों के भी वह लोकप्रिय नेता थे। उत्तराखंड राज्य आंदोलन के लिए गठित संयुक्त संघर्ष समिति के वह अध्यक्ष रहे। वह पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे। जौलीग्रांट स्थित हिमालयन अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। जहां सोमवार सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली। पूर्व विधायक अपने पीछे पत्नी निर्मला देवी, दो बेटे अजय, अरुण और तीन बेटियों का भरापूरा परिवार छोड़ गए। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत समेत अन्य ने उनके निधन पर शोक जताया।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने उत्तराखण्ड राज्य निर्माण आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले आंदोलनकारी, अविभाजित उत्तर प्रदेश में विधायक रहे श्री रणजीत सिंह वर्मा के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत आत्मा की शांति एवं दुःख की इस घडी में उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि पृथक उत्तराखण्ड के निर्माण में रणजीत सिंह के संघर्षों को सदैव याद रखा जायेगा।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: