सोमवार, 23 सितंबर 2019 | 09:19 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सेंसेक्स के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी तेजी, 1 दिन में ही निवेशकों को 7 लाख करोड़ रुपए का फायदा          इंतजार खत्म- वायुसेना को मिला पहला राफेल फाइटर जेट, दिया गया नए वायुसेना प्रमुख का नाम          जीएसटी काउंसिल की बैठक: ऑटो सेक्टर को नहीं मिली राहत, होटल कमरों पर कम हुई टैक्स दर          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          मौत का एक्सप्रेस वे बना यमुना एक्सप्रेस वे, इस साल हादसों में गई 154 लोगों की जान          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | फिट इंडिया मूवमेंट के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को दिए फिटनेस के मंत्र

फिट इंडिया मूवमेंट के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को दिए फिटनेस के मंत्र


 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को देश को स्वस्थ रहने का संदेश दिया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के दौरान फिटनेस से जुड़े कई मंत्र और 'मैं फिट तो इंडिया फिट' जैसे नारे दिए। खेल दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'फिट इंडिया मूवमेंट' की शुरुआत की और दिन प्रतिदिन की दिनचर्या में फिटनेस को जगह देने का आह्वान किया। दिल्ली के इंदिरा गांधी इन्डोर स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम के दौरान पीएम ने संबोधन दिया। यहां पढ़ें पीएम के भाषण की अहम बातें।

संबोधन की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने कहा, 'आप सभी को नेशनल स्पोर्ट्स डे की अनेक-अनेक शुभकामनाएं। आज के ही दिन हमें मेजर ध्यानचंद के रूप में एक महान स्पोर्ट्स पर्सन मिले थे। अपनी फिटनेस, स्टेमिना और हॉकी से दुनिया को मंत्र मुग्ध कर दिया था। मैं उन्हें नमन करता हूं'

खेलों का फिटनेस से सीधा नाता है। लेकिन आज जिस फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत हुई है, उसका विस्तार खेलों से भी आगे बढ़कर है। फिटनेस एक शब्द नहीं है बल्कि स्वस्थ और समृद्ध जीवन की एक जरूरी शर्त है।

 फिटनेस हमारे जीवन के तौर तरीकों, हमारे रहन सहन का अभिन्न अंग रहा है। लेकिन समय के साथ फिटनेस को लेकर हममें एक उदासीनता आ गई है। टेक्नोलॉजी ने हमारी ये हालत कर दी है कि हम चलते कम हैं। और अब वही तकनीक हमें बताती है कि आज आप इतने कदम चले, अभी 5 हजार कदम नहीं हुए, 2 हजार कदम नहीं हुए।

भारत में डायबिटीज और हाईपरटेंशन जैसी बीमारियां बढ़ती जा रही हैं, आजकल हम सुनते हैं कि हमारे पड़ोस में 12-15 साल का बच्चा डायबिटिक है। पहले सुनते थे कि 50-60 की उम्र के बाद हार्ट अटैक का खतरा बढ़ता है, लेकिन अब 35-40 साल के युवाओं को हार्ट अटैक आ रहा है।

घर-परिवार में सहज रूप से शारीरिक श्रम, फिटनेस, व्यायाम, रोजमर्रा के जीवन में चर्चा के विषय होने चाहिए। भारत में ही अचानक ऐसी जरूरत महसूस हो रही हो, ऐसा नहीं है। बल्कि पूरे विश्व में आज ऐसे अभियानों को जरूरत महसूस हो रही है।

आप किसी भी प्रोफेशन में हों, आपको अपने प्रोफेशन में ज्यादा क्षमता लानी है तो मेंटल और फिजिकल फिटनेस जरूरी है। चाहे बोर्डरूम हो या फिर बॉलीवुड, जो फिट है वो आसमान छूता है।

फिट इंडिया मूवमेंट भले ही सरकार ने शुरु किया है, लेकिन इसका नेतृत्व आप सभी को करना है। देश की जनता ही इस कैंपेन को आगे बढ़ाएगी और सफलता की बुलंदी पर पहुंचाएगी। मैं अपने निजी अनुभवों से कह सकता हूं कि इसमें निवेश जीरो है, लेकिन रिटर्न असीमित हैं।

मैं फिट तो इंडिया इसी आग्रह के साथ इस अभियान के लिए मेरी सभी देशवासियों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: