शनिवार, 24 जुलाई 2021 | 11:13 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम पुष्कर धामी ने किया 179 करोड़ की 65 योजनाओं का लोकार्पण,शिलान्यास          मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने रुद्रपुर में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों की समीक्षा          कोरोना महामारी के बीच ओलंपिक गेम्स हुए शुरू          सीएम पुष्कर धामी ने कोविड-19 से बचाव के लिये उच्चाधिकारियों एवं जिलाधिकारियों के साथ की समीक्षा          उत्तराखंड में कांग्रेस का सियासी संकट खत्म,हरीश रावत होंगे मुख्यमंत्री का चेहरा          कोरोना संक्रमण के चलते आर्थिक मंदी से जूझ रहे चारधाम यात्रा व पर्यटन को उभारे के लिए धामी सरकार की 200 करोड़ रूपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा          प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत उत्तराखंड में 240 लाभार्थियों को दिया गया आवास कब्जा          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई         
होम | सेहत | कोरोना से भी खतरनाक वायरस मंकीपोक्स वायरस ने दी दस्तक

कोरोना से भी खतरनाक वायरस मंकीपोक्स वायरस ने दी दस्तक


देश और दुनिया कोरोना महामारी से जंग लड़ रहे हैं। इस बीच भारत में कोरोना के मामले थोड़े कम जरूर हुए हैं। लेकिन एक परेशान कर देने वाली खबर सामने आयी है। जिसे जानने के बाद आपके होश उड़ जाएंगे। देश में एक और नए वायरस ने दस्तक दी है। अमेरिका में कोरोना वायरस का नया खतरा सामने आया है। टेक्सास में एक मरीज में ऐसी बीमारी पाई गई है कि हेल्थ विशेषज्ञ भी चिंतित हैं। मरीज के शरीर पर बड़े-बड़े फोड़े मंकीपॉक्स वायरस पाए गए हैं। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र ने बताया कि यह राज्य में देखा गया वायरस का पहला मामला है। एक अमेरिकी नागरिक नाइजीरिया के दौरे पर गया था। जहां से लौटने के बाद उसे वायरल हुआ और उसे डलास स्थित एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उस व्यक्ति को पता चल की उसे मंकीपोक्स हो गए हैं। मंकीपॉक्स चेचक के समान वायरस से संबंधित बीमारी है। यह दुर्लभ बीमारी जरूरी है लेकिन गंभीर वायरल बीमारी हो सकती है। इसमें आमतौर पर फ्लू जैसे लक्षणों और लिम्फ नोड्स की सूजन से शुरुआती होती है। धीरे-धीरे चेहरे और शरीर पर के बड़े हिस्से पर दाने उठने लगते हैं। चिंता की बात यह है कि यह बीमारीश्वसन बूंदों के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकती है। वैसे अमेरिका में सामने आए पहले केस के संबंध में अच्छी बात यह है कि अधिकांश यात्री कोरोना महामारी के कारण मास्क पहने हुए थे, इसलिए आशंका कम ही है कि उस विमान और हवाई अड्डे पर सांस की बूंदों के माध्यम से मंकीपॉक्स दूसरे लोगों तक पहुंची हो। इस बीमारी के सामने आने से लोगों के अंदर डर पैदा हो गया है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: