बृहस्पतिवार, 17 अक्टूबर 2019 | 06:19 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          कांग्रेस पार्टी का बड़ा एलान, जम्मू-कश्मीर में नहीं लड़ेंगे BDS चुनाव          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           भारतीय सेना एलओसी पार करने से हिचकेगी नहीं,पाकिस्तान को आर्मी चीफ बिपिन रावत की चेतावनी          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | मनोरंजन | 66वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार,उत्तराखंड को लगातार दूसरे साल बेस्ट फ़िल्म फ़्रेंडली राज्य का अवार्ड

66वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार,उत्तराखंड को लगातार दूसरे साल बेस्ट फ़िल्म फ़्रेंडली राज्य का अवार्ड


उत्तराखंड के फ़िल्म प्रेमियों के लिए अच्छी ख़बर है। दिल्ली में शास्त्री भवन में 66वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कारों का ऐलान हुआ तो सबसे पहला नाम उत्तराखंड का ही आया। उत्तराखंड को बेस्ट फ़िल्म फ़्रेंडली स्टेट का अवॉर्ड दिए जाने का ऐलान किया गया। फ़िल्मों की शूटिंग के लिहाज से उत्तराखंड सबसे अच्छा राज्य है। ख़ास बात यह है कि राज्य ने लगातार दूसरे साल यह पुरस्कार जीता है। पिछले कुछ सालों में उत्तराखंड में कई बड़ी फ़िल्मों की शूटिंग हुई है। जिनमें रजनीकांत जैसे मेगा स्टार की फ़िल्म भी शामिल है। मीटर गुल बत्ती चालू की ज़्यादातर शूटिंग टिहरी में ही हुई है।

आपको बता दें कि फ़ीचर फ़िल्म कैटेगरी में 31 अवार्ड दिए जाते हैं। इस साल इनके लिए 419 फ़िल्मों की एंट्री आई थी। जिनका सात सदस्यीय ज्यूरी ने 45 दिन में इनकी स्क्रीनिंग कर फ़ैसला किया। बेस्ट फ़िल्म फ़्रेंडली स्टेट कैटेगरी के लिए 18 राज्यों ने आवेदन किया था। इनमें ज्यूरी को उत्तराखंड का आवेदन सबसे मज़बूत लगा।

पिछले कुछ सालों में उत्तराखंड फ़िल्म इंडस्ट्री के फ़ेवरेट डेस्टिनेशन के रूप में उभरा है। ‘बत्ती गुल-मीटर चालू’, ‘केदारनाथ’ जैसी चर्चित फ़िल्मों की ज़्यादातर शूटिंग राज्य में हुई है तो दक्षिण भारतीय फ़िल्मकारों की नज़रों में भी उत्तराखंड की ख़ूबसूरती छा गई है। मेगा स्टार रजनीकांत ने की एक फ़िल्म की शूटिंग राज्य में हुई है तो बाहुबली के निर्देशक एसएस राजामौली भी उत्तराखंड शूटिंग के लिए आए हैं।

इनके अलावा अजय देवगन प्रोडक्शन द्वारा निर्मित हिन्दी फिल्म ‘शिवाय’, तिग्मांशु धूलिया निर्देशित राग देश, तेलगु फिल्म ‘ब्रहमोत्सवम’, हिन्दी फिल्म ‘शुभ मंगल सावधान’, ‘स्टूडेंट ऑफ द इयर-2’, जॉन इब्राहिम की ‘परमाणु’, ‘रायफलमैन जसबंत सिंह रावत’ के साथ ही मराठी फिल्म ‘फुर्र’ उत्तराखंड में शूट हुई फ़िल्मों में उल्लेखनीय हैं।

छोटे पर्दे की बात करें तो,सोनी टीवी पर प्रसारित सीरियल ‘बडे भैय्या की दुल्हनिया, ज़ी टीवी पर प्रसारित धारावाहिक ‘पिया अलबेला’, एम टीवी पर प्रसारित होने वाला रियलिटी Splitsvilla Session 10, बेपनाह जैसी टीवी सीरीज़ की शूटिंग भी उत्तराखंड में हुई है।

66वें राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार में उत्तराखंड को लगातार दूसरे साल बेस्ट फ़िल्म फ़्रेंडली राज्य का अवार्ड मिलन के बाद उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने राज्य के कलाकारों को भी बधाई दी है। श्री रावत ने अपने संदेश में कहा हैं कि यह हमारे राज्य के लिए बड़ी उपलब्धि है। हमारे राज्य में पिछले कई वर्षों से फिल्म निर्माताओं ने जिस तरह से अपनी फिल्मों और धारवाहिकों की शुटिंग की है। उससे हमारे लोगों को रोजगार तो मिला ही है। साथ ही हमारे राज्य का नाम विश्व सांस्कृतिक मंच पर भी बनी है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: