शनिवार, 24 जुलाई 2021 | 10:34 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम पुष्कर धामी ने किया 179 करोड़ की 65 योजनाओं का लोकार्पण,शिलान्यास          मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने रुद्रपुर में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों की समीक्षा          कोरोना महामारी के बीच ओलंपिक गेम्स हुए शुरू          सीएम पुष्कर धामी ने कोविड-19 से बचाव के लिये उच्चाधिकारियों एवं जिलाधिकारियों के साथ की समीक्षा          उत्तराखंड में कांग्रेस का सियासी संकट खत्म,हरीश रावत होंगे मुख्यमंत्री का चेहरा          कोरोना संक्रमण के चलते आर्थिक मंदी से जूझ रहे चारधाम यात्रा व पर्यटन को उभारे के लिए धामी सरकार की 200 करोड़ रूपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा          प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत उत्तराखंड में 240 लाभार्थियों को दिया गया आवास कब्जा          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई         
होम | उत्तराखंड | संवैधानिक संकट का राग अलाप रही कांग्रेस डरी हुई है-मदन कौशिक

संवैधानिक संकट का राग अलाप रही कांग्रेस डरी हुई है-मदन कौशिक


भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि कांग्रेस सल्ट उपचुनाव के बाद डरी हुई है और अब उजूल् फिजूल बयानबाजी कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा की और से अभी यह तय नहीं किया गया है कि मुख्यमंत्री कहाँ से चुनाव लड़ेंगे, लेकिन पार्टी में एक दर्जन से अधिक विधायको की और से सीट को लेकर प्रस्ताव है।

श्री कौशिक ने कहां कि जिन सीटों को लेकर कांग्रेसी बयानबाजी कर रहे हैं उन सीटों पर भी कोई संकट नहीं है। यह सब चुनाव आयोग को तय करना है कि कब चुनाव होगा और भाजपा तो हर वक़्त तैयार रहती है,क्योंकि उसके पास जनता का समर्थन है। पहले सल्ट को 2022 का सेमीफाइनल बताने वाली कांग्रेस चित्त् हो चुकी है और अब वह दिन में भी सपने देख रही है।

भाजपा संगठन और सरकार फिलहाल कोरोना काल में महज जरुरतमन्दो की सेवा कार्यो में जुटे हैं और क्योंकि सल्ट उप चुनाव ने साफ कर दिया है कि जनता भाजपा के विकास के एजेंडे से खुश है और निश्चित रूप से 2022 में भाजपा पुनः प्रचंड बहुमत के साथ वापसी कर रही है।

आपको बता दें कि सोमवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा था कि उत्तराखंड में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत छह महीने के भीतर विधानसभा सदस्य बनने का अवसर गंवा चुके हैं। ऐसे में उत्तराखंड में एक बार फिर संवैधानिक संकट पैदा हो सकता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत विधायक नहीं हैं। अपने पद पर बने रहने के लिए रावत को छह माह पूरा होने से पहले विधानसभा का निर्वाचित सदस्य होना चाहिए। 9 सितंबर को छह माह पूरे हो रहे हैं। लोकप्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 151 ए के तहत, उस स्थिति में उप-चुनाव नहीं हो सकता है, जहां आम चुनाव के लिए केवल एक वर्ष शेष है।

 

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: