रविवार, 23 फ़रवरी 2020 | 01:00 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | क्राइम | 21 बच्चों को मौत क मुंह में डालने वाले सिरफिरे दरिंदे की खौंफनाक कहानी

21 बच्चों को मौत क मुंह में डालने वाले सिरफिरे दरिंदे की खौंफनाक कहानी


इंसान के शैतान बनने की यूं तो आपने कई सारी कहानी सुनी और देखी होंगी लेकिन यूपी के फर्रुखाबाद में जो हुआ उसने सबको हिला कर रख दिया है। मासूमों को शुक्रवार आधी रात पुलिस कार्रवाई के बाद सकुशल छुड़ा लिया गया। करीब 11 घंटे तक चले इस बंधक संकट के सूत्रधार सुभाष बाथम को पुलिस ने रात करीब 1 बजे मार गिराया, जबकि उसकी पत्नी को आक्रोशित ग्रामीणों ने पीटकर मार डाला। सुभाष ने जन्मदिन मनाने के बहाने 21 बच्चों को दोपहर के वक्त बंधक बना लिया था। उसने समझाने आए एक ग्रामीण के पैर पर गोली मार दी थी। फर्रुखाबाद के एएसपी त्रिभुवन के मुताबिक कार्रवाई के दौरान सुभाष ने देसी बमों से पुलिस पर हमला किया। एनबीटी ऑनलाइन ने पूरे घटनाक्रम को फर्रुखाबाद के एएसपी त्रिभुवन सिंह से जानने की कोशिश की। सुभाष बाथम नाम के शख्स ने अपनी बिटिया के जन्मदिन की बात कहकर गांव के बच्चों को घर बुलाया। उसने अपने घर में बने बेसमेंट में सभी बच्चों को बंद कर दिया था। वहां पर उसने हथियार रखे थे। उसने बच्चों को धमकी दी थी कि यदि वे चुप नहीं रहे तो वह उन्हें बम से उड़ा देगा। पुलिस अधिकारी दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। औरबचाने की कोश करने लगी। इस बीच पुलसि ने बच्चों सुरक्षित निकाला और दरिंदे सुभ। और उसकी पत्नी रूबी की इसी मुठभेड़ में मौत भी हो गई। इस दौरान पुलिस को एक पत्र भी मिला है। जिसमें उसने शासन-परशसान पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए सरकारी सुविधा न मिलने का मुद्दा उठाया है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: