बुधवार, 29 जून 2022 | 08:36 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | देश | दुनिया में अचानक क्यों पड़ गया गेंहू का अकाल?

दुनिया में अचानक क्यों पड़ गया गेंहू का अकाल?


दुनियाभर मे गेंहू के अचानक दाम बढ़ गए हैं। जिसकी चर्चा हर तरफ होने लगी है। दुनिया का तीसरा गेहूं उत्पादक देश रूस और आठवां उत्पादक यूक्रेन परस्पर युद्ध में उलझे हैं। ऐसे में गेहूं की वैश्विक किल्लत नजर आ रही है। शायद इसी आशंका को देखते हुए सरकार ने गेहूं निर्यात पर रोक लगा दी है। वर्ष 2021-22 में भारत से 72.15 लाख मीट्रिक टन गेहूं का रिकॉर्ड निर्यात हुआ था, जबकि अप्रैल, 2022 में केवल 14.63 लाख मीट्रिक गेहूं का निर्यात हो सका। ऐसे में भारत पर गेहूं के निर्यात पर दबाव बना है। उन्‍होंने कहा‍ कि लेकिन देश के आंतरिक हालात ऐसे बने हैं कि भारत सरकार ने मजबूरी में यह फैसला लिया है। रत का यह फैसला देश हित में लिया गया बड़ा फैसला है। देश में गेहूं उत्‍पादन की क्षमता को देखते हुए भारत सरकार ने यह कदम उठाया है। भारत सरकार के इस फैसले से जी-7 के कुछ देशों ने सवाल उठाया है। जी-7 के कुछ देशों ने इस पर अपनी सख्‍त प्रतिक्रिया दी है। प्रो पंत ने कहा कि जी-7 देशों को भारत के आंतरिक हालात को भी समझना होगा। उन्‍होंने कहा कि इस मुद्दे को अगले महीने जर्मनी में जी-7 शिखर सम्मेलन के दौरान उठाया जा सकता है। खास बात यह है कि इस सम्‍मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाग लेंगे। जी-7 देशों का तर्क है कि भारत के इस फैसले से बांग्लादेश और नेपाल जैसे देश प्रभावित होंगे।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: