मंगलवार, 30 नवंबर 2021 | 02:20 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने पतंजलि विश्वविद्यालय,हरिद्वार के प्रथम दीक्षांत समारोह में गोल्ड मेडलिस्ट विद्यार्थियों को प्रदान की उपाधि          ओमीक्रॉन कोरोना वेरिएंट की भारत में हुई एंट्री          वर्ष 2025 तक उत्तराखण्ड बनेगा हर क्षेत्र में अग्रणी राज्यःसीएम पुष्कर सिंह धामी          सीएम पुष्कर धामी ने राइजिंग उत्तराखण्ड कार्यक्रम में किया प्रतिभाग,गायक जुबिन नौटियाल को किया सम्मान          1 दिसंबर से सउदी अरब जा सकेंगे भारतीय          उत्तराखंड में कोरोना काल में सराहनीय कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि          T20 रैंकिंग में रोहित शर्मा को हुआ फायदा          15 दिसम्बर तक स्वरोजगार योजनाओं के तहत लोन के निर्धारित लक्ष्य को किए जाने के सीएम धामी ने दिए निर्देश          सीएम योगी आदित्यनाथ एवं सीएम पुष्कर धामी की लखनऊ में हुई बैठक में निपटा उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड का 21 वर्ष पुराना विवाद         
होम | विचार | ऊंट जहरीले सांप क्यों खाता है?, कारण जानकर आपके होश उड़ जाएंगे

ऊंट जहरीले सांप क्यों खाता है?, कारण जानकर आपके होश उड़ जाएंगे


आपने ऊंट के बारे में एक से बढ़कर एक खबर पढ़ी और देखी सुनी होगी , लेकिन क्या आपको पता है। ऊंट जहरीला सापं भी खाता है। ऊँट एक शाकाहारी जानवर है लेकिन कभी-कभी ऊँटो को एक अजीब सी बीमारी हो जाती है जिससे इनके पैर और मुंह में बहुत दर्द होता हैं ऐसे में ऊँट खाना भी नही खाते है और इनकी मौत भी हो जाती है। इस बीमारी में ऊँटो को सांप खिलाया जाता है। सांप खाकर उनके जहर को बर्दाश्त करना आसान नही होता है लेकिन फिर भी इन्हें सांप खिलाया जाता है। ऊँट हर तरह की घास को खा लेते हैं ऊँट कैक्टस जैसे पौधों को भी खा लेते हैं। इस वक्त पूरी दुनिया में एक करोड़ 40 लाख से भी ज्यादा  ऊंट मौजूद हैं और वह सभी किसी न किसी इंसान के कब्जे में अपनी जिंदगी जी रहे हैं ऊंट को पालने वाले लोग अक्सर रेगिस्तानी इलाकों में रहते हैं जैसे कि अरब के देशों में या फिर अफ्रीकी रेगिस्तान में! वहीं भारत के भी कई हिस्सों जैसे राजस्थान में भी ऊँट को सामान ले जाने या लाने में किया जाता है क्योंकि रेगिस्तानी इलाको में लोगो को दूर सफर के लिए जाना पड़ता है जिस वजह से वो ऊँट को पालते हैं। यह जानवर रेगिस्तान के रेतीले इलाकों में भी 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ सकता है यही वजह है कि रेगिस्तानी इलाकों में रहने वाले लोग एक जगह से दूसरी जगह तक जाने के लिए और अपने सामान को धोने के लिए इस जानवर का सहारा लेते हैं। इस तरह ऊंट से जुड़ी हुई ऐसी तमाम जानकारियां है जो अकसर हैरान कर देती हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: