रविवार, 27 सितंबर 2020 | 09:52 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
टाइम मैग्जीन ने जारी की दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट,पीएम मोदी लिस्ट में इकलौते भारतीय ने          पीएम मोदी ने फिट इंडिया मूवमेंट के एक साल पूरा होने पर,बताए अपनी फिटनेस के सीक्रेट          डीआरडीओ को मिली बड़ी कामयाबी,अर्जुन टैंक से लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण          ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर डीन जोन्स का मुंबई में दिल का दौरा पड़ने से निधन          पॉलिसी उल्लंघन के कारण गूगल ने पेटीएम को हटाया,पेटीएम ने कहा,पैसे हैं सुरक्षित          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे           उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | उत्तराखंड के छह शहरों में बनेगी कूड़े से बिजली,रुड़की में लगेगा प्लांट

उत्तराखंड के छह शहरों में बनेगी कूड़े से बिजली,रुड़की में लगेगा प्लांट


उत्तराखंड सरकार अब शहरी क्षेत्रों में रोज निकलने वाले कूड़े से बिजली बनाने की योजना को रुड़की समेत प्रदेश के छह शहरों में लागू करने की तैयारी में है। शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने विधानसभा में आयोजित बैठक में शहरी विकास विभाग के अधिकारियों को इसकी योजना तैयार करने का निर्देश दिया। 

राज्य पर्यावरण रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश में खेतों से निकलने वाले पराली आदि के साथ ही निकायों में निकलने वाले कचरे से प्रदेश में 300 मेगावाट बिजली बनाई जा सकती है। प्रदेश में उद्योगों व खेतों आदि से 200 लाख टन कचरा निकलता है।

प्रदेश सरकार की कोशिश इस कचरे का उपयोग करने की है। मंत्री मदन कौशिक ने मंगलवार को हुई विधानसभा की बैठक में रुड़की में वेस्ट टू एनर्जी प्लांट लगाने का निर्देश दिया। इसके साथ ही हल्द्वानी, काशीपुर, ऋषिकेश, रुद्रपुर और कोटद्वार में भी इस तरह के प्लांट स्थापित करने की योजना तैयार करने की बात कही। कौशिक ने कहा कि एक माह बाद इसकी समीक्षा भी की जाएगी।

प्रदेश के निकायों में रहने वाले लोगों के घरों से निकलने वाले दैनिक कचरे के निपटान की समस्या है। हाल ये है कि निकाय अभी हर घर से कूड़ा नहीं उठा पा रहे हैं। जो कूड़ा उठ भी रहा है उसका 50 प्रतिशत ही डंपिंग ग्राउंड तक पहुंचता है।

बैठक में मंत्री ने कहा कि हर घर से कचरा उठाने और स्रोत पर ही कूड़े को अलग-अलग करने की व्यवस्था की जाए। इसके लिए 14वें वित्त आयोग के पैसे का उपयोग तब तक किया जाए जब तक यह काम पूरा नहीं हो जाता। वित्त आयोग की ओर से निकायों को अलग से पैसा दिया गया है। 

बैठक में इंडियन ऑयल कारपोरेशन की मदद से हरिद्वार में बायोगैस प्लांट लगाने का योजना है। कौशिक ने कहा कि निकाय कंपोस्ट बनाने के लिए कृषि और उद्यान विभाग को छंटा हुआ कचरा देकर अपने लिए नए आय के स्रोत भी विकसित करें।

इसके लिए हर शहरी निकाय में मॉडल विकसित किया जाए। बैठक में पर्यावरण संरक्षण परिषद के अध्यक्ष विश्वास डाबर, उपाध्यक्ष प्रकाश चंद्र हरबोला सहित विभागीय अधिकारी शामिल रहे।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: