सोमवार, 23 सितंबर 2019 | 09:27 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सेंसेक्स के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी तेजी, 1 दिन में ही निवेशकों को 7 लाख करोड़ रुपए का फायदा          इंतजार खत्म- वायुसेना को मिला पहला राफेल फाइटर जेट, दिया गया नए वायुसेना प्रमुख का नाम          जीएसटी काउंसिल की बैठक: ऑटो सेक्टर को नहीं मिली राहत, होटल कमरों पर कम हुई टैक्स दर          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          मौत का एक्सप्रेस वे बना यमुना एक्सप्रेस वे, इस साल हादसों में गई 154 लोगों की जान          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | डॉक्टर रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने किया ICHR,ICSSR,के कार्यालयों का औचक निरीक्षण

डॉक्टर रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने किया ICHR,ICSSR,के कार्यालयों का औचक निरीक्षण


केन्‍द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ.रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने  फिरोजशाह रोड़, नई दिल्‍ली स्थित भारतीय इतिहास अनुसंधान परिषद (आईसीएचआर), भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएसएसआर)और यूजीसी के दूरस्‍थ शिक्षा प्रभाग के कार्यालयों का औचक निरीक्षण किया। श्री पोखरियाल ने इन संगठनों के अधिकारियों व कर्मचारियों से मुलाकात की और उनके बारे में जानकारी ली।

इस मौके पर श्री पोखरियाल ने ऐतिहासिक महत्‍व के सभी दस्‍तावेजों तथा फाइलों के डिजिटलीकरण की जरूरत पर बल दिया। उन्‍होंने कहा कि यह सभी दस्‍तावेज देश की विरासत है। उन्‍होंने पुस्‍तकालय की पुनर्संरचना तथा सभी पुस्‍तकों को पेशेवर तरीके से संग्रह करने का निर्देश दिया। उन्‍होंने इस बात की सराहना की कि आईसीएचआर ने 2800 अनुसंधान कार्य पूरे कर लिये है। उन्‍होंने अधिकारियों से इन अनुसंधान कार्यों को समाज तक पहुंचाने का आग्रह किया, ताकि लोग इसका लाभ उठा सकें। श्री पोखरियाल ने बरामदे में रखी फाइलों पर कहा कि हमें स्‍वच्‍छता के प्रति सजग रहना चाहिए और पर्यावरण अनुकूल गतिविधियों को प्रोत्‍साहित करना चाहिए।

इस दौरान श्री पोखरियाल ने संस्‍थानों की वर्तमान अवसंरचना, रखरखाव और मानव संसाधन संबंधित विषयों  की समीक्षा भी की,उन्‍होंने वरिष्‍ठ अधिकारियों को संस्‍थानों के विकास के लिए हरसंभव सहायता देने का आग्रह किया। इस दौरान उन्होंने शोध के प्रमुख क्षेत्रों की भी जानकारी ली। उन्होंने परिषद के अधिकारियों को रिक्त पद भरने का भी आदेश दिया। इस अवसर पर विभिन्न फैलोशिप के संबंध में चर्चा के साथ ही अंतरराष्ट्रीय सहयोग के क्षेत्र में भी व्यापक विमर्श हुआ। इस दौरान मंत्री डॉ. निशंक ने वहां मौजूद सभी कर्मचारियों और अधिकारियों से उनके काम के बारे में विस्तार से जानकारी भी ली।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: