बुधवार, 22 मार्च 2023 | 08:42 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | पर्यटन | आओ सैर करें- मॉनसून पर घूमने की सबसे शानदार जगह- दूधसागर वॉटरफॉल

आओ सैर करें- मॉनसून पर घूमने की सबसे शानदार जगह- दूधसागर वॉटरफॉल


हिमालयन न्यूज़ की ‘आओ सैर करें’, सीरीज में आज हम आपको ले चलते हैं गोवा के पास दूधसागर वाटरफॉल में। इस झरने से गिरता मंडोवी नदी का पानी और सामने से गुजरती ट्रेन- ये नज़ारा आप ताजिन्दगी भूल नहीं पाएंगे। गोवा में 1017 फीट की ऊंचाई पर स्थित दूधसागर झरना भारत के सबसे ऊंचे और खूबसूरत झरनों में से एक है। इस झरने से बहता पानी दूध की तरह सफेद दिखता है। इसलिए इस झरने का नाम दूधसागर रखा गया है।

मंडोवी नदी के पश्चिमी घाटों से पणजी तक जाते समय बीच में दूधसागर जलप्रपात पड़ता है। यह खूबसूरत झरना भगवान महावीर सेंचुरी और मोलम नेशनल पार्क में स्थित है। मंडोवी नदी कर्नाटक के बेलगावी से निकलती है और गोवा की राजधानी पणजी होते हुए अरब सागर में जाकर मिल जाती है। दूधसागर झरना भारत के सबसे ऊंचे जलप्रपात में शामिल है। इसकी ऊंचाई 310 मीटर यानी 1017 फिट है।

दूधसागर जलप्रपात जब पहाड़ी से नीचे गिरता हैं और जब इसका पानी चट्टानों से बहते हुए नीचे आता हैं तो बिल्कुल दूध की तरह सफेद दिखता हैं। यह इतनी ऊंचाई से गिरता हुआ पानी ऐसा प्रतीत होता हैं जैसे पहाड़ से दूध की नदी बह हो रही हो और इसलिए इस झरने का नाम दूधसागर पड़ा हैं। यह स्थान चारों तरफ से घने जंगल से घिरा हुआ हैं।

एक कहानी के मुताबिक झील में एक राजकुमारी सखियों के साथ रोज स्नान करती और फिर घड़े में साथ आया दुग्ध पान करतीं। इसी क्रम में एक दिन जल में अठखेलियां करते समय किसी राजकुमार की नज़र ठहर गई। इसका आभास पाते ही सभी ने घड़े का दूध झील के जल में मिला दिया, ताकि पानी गहरा हो जाए और लाज बच जाए। तभी से जल दूधिया बहता है।

इस झरने तक पहुँचने का सबसे निकटम रेलवे स्टेशन कैसल रॉक स्टेशन हैं। जहा पर सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है। आगंतुक यहाँ से ट्रेन पकड़ सकते हैं और दूधसागर स्टॉप पर उत्तर सकते हैं। यहाँ पर रात्रि विश्राम के लिए कई अच्छी जगह उपलब्ध है, जैसे दूध सागर ईको एवं वाइल्ड लाइफ रिसोर्ट। इस बरसात यहां घूमने का प्लान ज़रूर बनाएं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: