सोमवार, 23 सितंबर 2019 | 09:27 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सेंसेक्स के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी तेजी, 1 दिन में ही निवेशकों को 7 लाख करोड़ रुपए का फायदा          इंतजार खत्म- वायुसेना को मिला पहला राफेल फाइटर जेट, दिया गया नए वायुसेना प्रमुख का नाम          जीएसटी काउंसिल की बैठक: ऑटो सेक्टर को नहीं मिली राहत, होटल कमरों पर कम हुई टैक्स दर          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          मौत का एक्सप्रेस वे बना यमुना एक्सप्रेस वे, इस साल हादसों में गई 154 लोगों की जान          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | धर्म-अध्यात्म | रक्षा बंधन के अवसर पर चंपावत के बाराही धाम देवीधूरा में खेली गई ऐतिहासिक बगवाल

रक्षा बंधन के अवसर पर चंपावत के बाराही धाम देवीधूरा में खेली गई ऐतिहासिक बगवाल


रक्षा बंधन के अवसर हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी चंपावत जिले के बाराही धाम देवीधूरा में ऐतिहासिक बगवाल खेली गई। करीब दस मिनट तक चले बगवाल युद्ध में 122 रणबांकुरे घायल हुए। बगवाल में चार खाम और सात थोकों रणबांकुरों ने प्रतिभाग किया।

चंपावत जिले के बाराही धाम देवीधुरा में खोलीखाड़ दुर्बाचौड़ मैदान में खेली गई ऐतिहासिक बगवाल के हजारों लोग साक्षी बने। करीब दस मिनट तक चले बगवाल युद्ध में 122 लोग घायल हुए, जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई।

इस बग्वाल में चार खाम और सात थोकों रणबांकुरों ने प्रतिभाग किया। परंपरागत रूप से ये खाम हैं- चम्याल खाम, बालिक खाम, लमगडिया खाम, और गहरवाल होते हैं। ये चारों दल दो समूहों में बंट जाते हैं और इसके बाद युद्ध होता है। चंपावत जिले के बाराही धाम देवीधुरा में  खोलीखाड़ दुर्बाचौड़ मैदान में खेली गई ऐतिहासिक बग्वाल के हजारों लोग साक्षी बने। करीब दस मिनट तक चले बग्वाल युद्ध में 122 लोग घायल हुए, जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। देवीधुरा के असाड़ी कौतिक में बरसात के बावजूद खूब भीड़ थी। बग्वाल को देखने के लिए उत्तराखंड और अन्य राज्यों के हजारों श्राद्धालु देवीधुरा पहुंचे थे। ऐतिहासिक खोलीखांण दूबाचौड़ मैदान में सुबह से भीड़ जुटनी शुरू हो गई थी। दोपहर तक भारी भीड़ एकत्र हो गई। बग्वाल दोपहर 2.06 मिनट से शुरू हुई और 2.15 पर खत्म हुई। एक बार ऐतिहासिक बग्वाल मात्र 15 मिनट खेली गई। पहले इस युद्ध में दोनों ओर से पत्थर फेंके जाते थे। दरअसल पहले मां बाराही को नरबलि दी जाती थी। उसके विकल्प के रूप में चारों कामों ने आपसी सहमति से यह बग्वाल की परंपरा शुरु की थी।
ऐतिहासिक बगवाल को देखने के लिए पूर्व सीएम भगत सिंह कोश्यारी, पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री और सांसद अजय टम्टा, विधायक पूरन सिंह फर्त्याल, राम सिंह कैंडा सहित सैकड़ों लोग शामिल रहे।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: