सोमवार, 23 सितंबर 2019 | 09:21 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सेंसेक्स के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी तेजी, 1 दिन में ही निवेशकों को 7 लाख करोड़ रुपए का फायदा          इंतजार खत्म- वायुसेना को मिला पहला राफेल फाइटर जेट, दिया गया नए वायुसेना प्रमुख का नाम          जीएसटी काउंसिल की बैठक: ऑटो सेक्टर को नहीं मिली राहत, होटल कमरों पर कम हुई टैक्स दर          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          मौत का एक्सप्रेस वे बना यमुना एक्सप्रेस वे, इस साल हादसों में गई 154 लोगों की जान          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | सेहत | उत्तराखंड में तेजी से बढ़ रहा है डेंगू का प्रकोप,रहे सावधान

उत्तराखंड में तेजी से बढ़ रहा है डेंगू का प्रकोप,रहे सावधान


उत्तराखंड में डेगू बेकाबू होता जा रहा है। लगातार डेंगू के बढ़ते मामलों को देख स्वास्थ्य महकमे के भी हाथ-पांव फूल रहे हैं। प्रदेश में 51 और मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई जिसके बाद  देहरादून में अब डेगू पीड़ितों की संख्या 471 हो गई है। जबकि अन्य जनपदों के 12 मरीजों को भी इसमें शामिल किया जाए तो राज्य में डेगू का आंकड़ा 483 हो गई है। एक ही दिन में डेगू के इतने अधिक मामले आने से स्वास्थ्य विभाग सकते में आ गया है। विभागीय अधिकारियों ने एक बार फिर जिम्मेदारों को जरूरी दिशा-निर्देश जारी किए हैं। सरकारी व प्राइवेट अस्पतालों को अलर्ट किया गया है। मरीजों के उपचार में किसी भी तरह की कोताही नहीं बरतने के निर्देश अस्पताल प्रबंधकों को दिए गए हैं।

हरिद्वार में भी डेंगू और स्क्रब टाइफस बुखार के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। जिला अस्पताल में अब तक पाँच मरीजों में डेंगू और 14 मरीजों में स्क्रब टाइफस बुखार की पुष्टि हो हुई है। लेकिन इस बार स्क्रब टाइफस बुखार से पीड़ित मरीज बढ़ने से अस्पताल के डॉक्टर भी हैरत में है। गर्मी और बरसात के मौसम में डेंगू बुखार के लिए तो जिला अस्पताल में हर साल अलग से आइसोलेटेड वार्ड की व्यवस्था की जाती है मगर इस बार स्क्रब टाइफस बुखार की नई बीमारी से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ना चिंता का विषय जरूर है। हालांकि जिला अस्पताल में इस बीमारी का इलाज आसानी से किया जा रहा है। 

जिला अस्पताल के सीएमएस डाक्टर राजकुमार ने बताया कि जिला अस्पताल में 4 डेंगू और 7 स्क्रब टाइफस बुखार से पीड़ित मरीज भर्ती है।  डेंगू और स्क्रब टाइफस के इलाज के लिए उनके पास पर्याप्त मात्रा में दवाइयां और  ब्लड यूनिट उपलब्ध है। इन दोनों बीमारियों से पीड़ित मरीजों के लिए अलग वार्ड की व्यवस्था भी की गई है। 

 

डेंगू के लक्षण
ठंड लगने के साथ अचानक तेज बुखार।
सिर, पेट मांसपेशियों और जोड़ों में असहनीय दर्द।
बहुत ज्यादा कमजोरी लगना और भूख न लगना।
शरीर पर चकते पड़ना, हाथ-पैर ठंडे पड़ने, बार-बार उल्टी होना, जी मिचलाना।
बेहोशी छाने और हालत गंभीर होने पर मुंह-नाक से खून निकलना।
 

डेंगू से बचाव

घर, स्कूल और कार्यालयों के कूलर, फ्रिज व गमलों आदि में ज्यादा दिन तक पानी जमा न रहने दें।
फुल बाजू की कमीज, फुल पैंट, सलवार, ट्राउजर आदि पहनें।
शरीर पर मच्छर रोधी क्रीम लगाकर रखें।
सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल करें।
भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें।
डेंगू के प्राथमिक लक्षण दिखने पर खुद दवा लेने की बजाय किसी अच्छे चिकित्सक को दिखाएं।
डॉक्टर की सलाह के अनुसार, जांच कराएं और दवा लें।
डेंगू के दौरान शरीर में पानी की कमी नुकसानदायक हो सकती है। इसलिए मरीज को समय-समय पर पानी पिलाते रहें।
छाछ, नींबू पानी और नारियल पानी लाभदायक रहेगा। एंटी ऑक्सीडेंट के तत्वों से भरपूर कीवी, किशमिश जैसे फल व मेवें खाएं।
मिर्च मसाले और तला हुआ खाना न खाएं, भूख से कम खाना खाएं।

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: