सोमवार, 27 सितंबर 2021 | 03:58 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प्रदेश में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये मुख्यमंत्री नारी सशक्तिकरण योजना का शुभारम्भ किया जाय          विश्व पर्यटन दिवस पर सीएम पुष्कर धामी ने प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं          भाजपा की महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष वानाती श्रीनिवासन ने कहा,पीएम मोदी के कार्यकाल में मातृशक्ति सबसे ज्यादा मजबूत हुई है          सीएम पुष्कर धामी हरिद्वार में ब्रह्मलीन वीतराग सन्त शिरोमणि स्वामी वामदेव जी महाराज की प्रतिमा का किया अनावरण          उत्तराखण्ड में भी होगा वन्दे भारत ट्रेन का संचालन          उत्तराखंड कैबिनेट का बड़ा फैसला,राज्य कर्मियों का महंगाई भत्ता 11 फीसद बढ़ा          चार धाम यात्रा के लिए अब तक 42 हजार तीर्थ यात्रियों ने किया रजिस्ट्रेशन          रक्तदान के लिए हर व्यक्ति को आगे आने की जरूरतः त्रिवेंद्र रावत          उत्तराखंड की चार धाम यात्रा से हटी रोक         
होम | सेहत | कोरोना डेल्डा प्लस के सामने बेअसर हुई कोरोना की दोनों डोज

कोरोना डेल्डा प्लस के सामने बेअसर हुई कोरोना की दोनों डोज


पूरी दुनिया में मौत बरसा रहा कोरोना वायरस एकबार फिर से अपने नए रूप के साथ वापस आया है। कोरोना वायरस की डेल्टा पल्स वेरियंट कोरोना की वैक्सीन को पूरी तरह से बेअसर बना देती है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद का कहना है कि वायरस का डेल्टा वैरिएंट वैक्सीन लेने के बाद भी लोगों को संक्रमित कर सकता है। चेन्नई में आईसीएमआर ने एक अध्ययन किया जिसके नतीजे में इस बात का खुलासा हुआ है। अध्ययन के अनुसार यह वैरिएंट बगैर वैक्सीन लिए लोगों को तो अपने चपेट में लेगा ही साथ ही वैक्सीन की पर्याप्त खुराक ले चुके लोग भी इससे सुरक्षित नहीं हैं। हालांकि अध्ययन में इस बात पर जोर दिया गया है कि इससे संक्रमित वैक्सीनेटेड लोगों की मृत्यु का जोखिम कम है। आईसीएमआर ने स्‍टडी में पाया कि डेल्‍टा या B.1.617.2 वेरिएंट वैक्‍सीनेटेड और नॉन-वैक्‍सीनेटेड, दोनों समूहों में पाया गया। दुनियाभर में यही स्‍ट्रेन सबसे ज्‍यादा फैला है और भारत में दूसरी लहर के पीछे यही जिम्‍मेदार था। ICMR ने अपनी रिपोर्ट में अन्‍य स्‍टडीज का हवाला भी दिया है जिनमें डेल्‍टा वेरिएंट से संक्रमण के बाद कोविशील्‍ड और कोवैक्‍सीन लेने वालों में एंटीबॉडीज की ताकत घटने की बात कही गई है। स्‍टडी के अनुसार, पूरी तरह वैक्‍सीनेटेड लोगों में ब्रेकथ्रू इन्‍फेक्‍शन होने की यही वजह हो सकती है। यही कारण है कि, कोरोना की डेल्ट प्लस वेरियंट के सामने कोरोना की वैक्सीन बेअसर होती जा रही है। इस खबर के सामने आने से लोगों के अंदर डर पैदा हो गया है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: