सोमवार, 27 सितंबर 2021 | 04:09 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प्रदेश में महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये मुख्यमंत्री नारी सशक्तिकरण योजना का शुभारम्भ किया जाय          विश्व पर्यटन दिवस पर सीएम पुष्कर धामी ने प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं          भाजपा की महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष वानाती श्रीनिवासन ने कहा,पीएम मोदी के कार्यकाल में मातृशक्ति सबसे ज्यादा मजबूत हुई है          सीएम पुष्कर धामी हरिद्वार में ब्रह्मलीन वीतराग सन्त शिरोमणि स्वामी वामदेव जी महाराज की प्रतिमा का किया अनावरण          उत्तराखण्ड में भी होगा वन्दे भारत ट्रेन का संचालन          उत्तराखंड कैबिनेट का बड़ा फैसला,राज्य कर्मियों का महंगाई भत्ता 11 फीसद बढ़ा          चार धाम यात्रा के लिए अब तक 42 हजार तीर्थ यात्रियों ने किया रजिस्ट्रेशन          रक्तदान के लिए हर व्यक्ति को आगे आने की जरूरतः त्रिवेंद्र रावत          उत्तराखंड की चार धाम यात्रा से हटी रोक         
होम | देश | बारिश कराने के लिए लड़कियो को घुमाया नंगा

बारिश कराने के लिए लड़कियो को घुमाया नंगा


आपने देश और दुनिया के कई अजीब रिति रिवाज देखे होंगे। लेकिन ऐसा शायद ही देखा होगा जिसमे बारिश के लिए लड़कियों को नंगा घुमाया जा रहा है और ऐसा कहीं और नहीं बल्कि हमारे ही देश में हो रहा है। बारिश कराने के लिए लड़कियों को नंगा घुमाया गया। मध्य प्रदेश के दमोह जिले में अंधविश्वास की एक घटना सामने आई। यहां जबेरा ब्लॉक के आदिवासी बहुल्य बनिया गांव में बारिश न होने पर टोटका किया गया। इसमें महिलाओं ने अपने ही घर की बच्चियों को बिना कपड़ों के गांव की गलियों में घुमाया। महिलाओं का मानना है कि ऐसा करने से इतनी बारिश होती है कि माता की प्रतिमा का गोबर धुल जाता है। मामला सामने आने के बाद राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने कलेक्टर एसकृष्ण चैतन्य को नोटिस जारी कर 10 दिन के अंदर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आयोग ने कलेक्टर से बच्चियों का आयु प्रमाण पत्र, जांच रिपोर्ट और अन्य दस्तावेज मांगे हैं। कलेक्टर ने जांच में तथ्य सामने आने के बाद कार्रवाई की बात कही है। गांव के लोग पुरानी मान्यताओं को आज भी अपनाते हैं और टोटके करके बारिश लाने की कोशिश करते हैं। दमोह के अमदर पंचायत के बनिया गांव में सूखे को देखते हुए गांव की छोटी-छोटी बच्चियों को पूरी तरह नग्न कर उनके कंधों पर मूसल रखा गया। इस मूसल में मेंढक को बांधा जाता है। बच्चियां पूरे गांव में घूमती हैं और पीछे-पीछे महिलाएं भजन कीर्तन करती जाती हैं। लोगों का मानना है कि ऐसा करने से अच्छी बारिश उनके इलाके में होगी और उनकी फसलों को फायदा पहुंचेगा। इस अंधविश्वास के फोटो और वीडियो वायरल होने से काफी विवाद खड़ा हो गया है। 


© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: