सोमवार, 25 अक्टूबर 2021 | 02:16 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम पुष्कर धामी ने अयोध्या में रामलला और हनुमानगढ़ी के दर्शन          मुख्यमंत्री पुष्कर धामी एवं माताश्री मंगला जी ने किया हंस फाउण्डेशन डायलिसिस केन्द्र का लोकार्पण          सीएम ने उत्तराखण्ड जन विकास समिति के पहल 2021 अधिवेशन का शुभारम्भ किया          जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से मुठभेड़ में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद,सीएम धामी ने जताया गहरा दुःख          महिला मंगल दल एवं युवक मंगल दल के लिए आर्थिक सहायता के लिए शासनादेश जारी          सीएम धामी ने गुवाहाटी में शहीद हुए सेना के जवान सोनित कुमार सैनी को दी श्रद्धांजलि          मुख्य सचिव ने पर्यटन विभाग के अधिकारियों को दिए निर्देश, माउंटेनियर्स और ट्रैकर्स के लिए होगी रिस्टबैंड की व्यवस्था          सीएम हेल्पलाइन पर प्राप्त जन शिकायतों का समाधान समयबद्धता से हो-सीएम धामी         
होम | देश | गुलाब के कहर से हुई 3 लोगों की मौत

गुलाब के कहर से हुई 3 लोगों की मौत


चक्रवात गुलाब की आफत ओडिसा और आंध्र प्रदेश पर टूट रही है। जिसके कारण अब तक 3 लोगों की मौत हो चुकी है। चक्रवाती तूफान ने रविवार को अपनी दस्तक दी थी जिसके चलते ओडिशा के गंजम जिले में एक व्यक्ति बह गया और आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले के दो मछुआरों की मौत हो गई, जबकि एक अन्य लापता हो गया। बंगाल की खाड़ी पर बने चक्रवाती तूफान गुलाब के ओडिशा- पश्चिम बंगाल के दक्षिणी हिस्सों की ओर बढ़ने की चेतावनी दी गई है। इन दोनों राज्यों के साथ ही आंध्र प्रदेश के लिए मौसम विभाग ने रेड अलर्ट की चेतावनी जारी की है। ओडिशा-पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश के कई जिलों में अगले तीन दिनों में भारी से भारी बारिश होने की संभावना है, इसे लेकर मौसम विभाग ने हाई अलर्ट जारी किया है। ओडिशा में ओडीआरएफ की टीम भेजी गई है साथ ही एनडीआरएफ की टीम को भी भेजा गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी से बात की और चक्रवाती तूफान ‘गुलाब’ से उत्पन्न होने वाली किसी स्थिति से निपटने में केंद्र की ओर से मदद का भरोसा दिया। मोदी ने ट्वीट किया,  ओडिशा में तूफान की स्थिति पर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक जी से चर्चा की। केंद्र आने वाली मुश्किल में पूरी मदद करने का भरोसा देता है। इसके साथ ही उन्होंने सभी की सुरक्षा और बेहतरी की प्रार्थना की। चक्रवात के आने से पहले, ओडिशा के गंजम और गजपति जिले में लगभग 39,000 लोगों को जिलों द्वारा निकाला गया था। अधिकारियों ने कहा कि लोगों ने निकासी प्रक्रिया में दिलचस्पी नहीं दिखाई क्योंकि हवा की गति और बारिश तुलनात्मक रूप से कम रही है। गजपति जिले में एक पहाड़ में भूस्खलन के बाद एक सड़क को सील कर दिया गया।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: