बुधवार, 16 जून 2021 | 06:59 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
श्री बदरीनाथ धाम के क्षेत्रपाल श्री घंटाकर्ण महाराज जी के सीमांत ग्राम माणा स्थित मंदिर के कपाट खुले          मुख्यमंत्री तीरथ रावत ने दिल्ली में कई केंद्रीय मंत्रियों से की भेंट          सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने सैन्यधाम के निर्माण में मदद तथा छावनी क्षेत्रों से संबंधित विभिन्न विषयों को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से की भेंट          दिल्ली-रामनगर कार्बेट इको ट्रेन को मिली सैद्धान्तिक मंजूरी          मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल से की भेंट          राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कुमाऊँ मंडल में कोरोना नियंत्रण से सम्बन्धित स्थिति की की समीक्षा          राम जन्मभूमि खरीद में नहीं हुआ कोई घोटाला          न्यूजीलैंड का मैच विराट के लिए बनेगा सबसे बड़ी चुनौती          मसूरी टनल के कार्य का अक्टूबर में उद्घाटन करेंगे केन्द्रीय मंत्री नितिन गड़करी          पौड़ी के रांसी स्टेडियम में बनेगा हाई एल्टीट्यूड ट्रेनिंग सेंटर          उत्तराखण्ड में क्राफ्ट टूरिज्म विलेज स्थापित कर इसे होम स्टे से जोङने पर दे जोर- स्मृति जुबिन ईरानी          चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्‍तरकाशी के लोगों के खुली चारधाम यात्रा         
होम | क्राइम | उत्तरखंड में बढ़ी घरेलू हिंसा

उत्तरखंड में बढ़ी घरेलू हिंसा


देश और दुनिया में घरेलू हिंसा के मामले लगातार बढ़ते ही जा रही है। जिसकी वजह से लोग आत्महत्या या फिर हत्या कर रहे हैं। अब उत्तराखंड में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है। उत्तराखंड में घरेलू हिंसा के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। इसकी तस्तीक महिला सशक्तीकरण और बाल विकास विभाग में दर्ज शिकायतें बयां कर रही हैं। विभाग को बीते चार सालों में राज्यभर से महिला हिंसा की 2314 और बाल यौन शोषण से संबंधित 139 शिकायतें मिली हैं। महिलाओं के खिलाफ हिंसा की रोकथाम के लिए केंद्र सरकार की ओर से हर राज्य में वन स्टॉप सेंटर का गठन किया गया है। इसमें पीड़ित  महिलाओं के लिए चिकित्सकीय, कानूनी व मनोवैज्ञानिक परामर्श और सहायता मुहैया कराई जाती है। इसी के तहत मद्देनजर महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग के अधीन वर्ष 2016 में राज्य के सभी जिलों में वन स्टॉप सेंटर बनाए गए थे। पिछले चार वर्षों में कुल 3359 में से 2395 शिकायतों का निस्तारण किया जा चुका है, जबकि लंबित 964 शिकायतों पर सुनवाई जारी है। उत्तरखेड मे बढ़ रहे हिंसा के मामलो का खुलासा यहीं से हुआ है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: