शनिवार, 24 जुलाई 2021 | 10:16 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम पुष्कर धामी ने किया 179 करोड़ की 65 योजनाओं का लोकार्पण,शिलान्यास          मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने रुद्रपुर में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों की समीक्षा          कोरोना महामारी के बीच ओलंपिक गेम्स हुए शुरू          सीएम पुष्कर धामी ने कोविड-19 से बचाव के लिये उच्चाधिकारियों एवं जिलाधिकारियों के साथ की समीक्षा          उत्तराखंड में कांग्रेस का सियासी संकट खत्म,हरीश रावत होंगे मुख्यमंत्री का चेहरा          कोरोना संक्रमण के चलते आर्थिक मंदी से जूझ रहे चारधाम यात्रा व पर्यटन को उभारे के लिए धामी सरकार की 200 करोड़ रूपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा          प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत उत्तराखंड में 240 लाभार्थियों को दिया गया आवास कब्जा          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई         
होम | सेहत | उत्तराखंड के बाद अब यूपी में भी हुई कोरोना के खतरनाक वेरियंट की एंट्री

उत्तराखंड के बाद अब यूपी में भी हुई कोरोना के खतरनाक वेरियंट की एंट्री


देश और दुनिया में कोरोना के मामले भले ही कम हुए हैं। लेकिन उसके बाद भी कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। भारत में कोरोना की डेल्टा प्लस वेरियंट ने दस्तक दे दी है। जिसके कारण अब तक कई सारे लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना के अब इस नए डेल्ट प्लस वेरियंट की एंट्री यूपी में भी हो चुके हैं। यूपी में कप्पा वैरिएंट पहली बार मिला है। इस वैरिएंट को वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट घोषित किया जा चुका है। वहीं, कोरोना वायरस के नए स्वरूप, डेल्टा, डेल्टा प्लस और कप्पा वैरिएंट की पुष्टि के बाद शासन ने पूरे मामले की जानकारी बीआरडी मेडिकल कॉलेज प्रशासन से मांगी है। संक्रमितों का नाम पता सहित पूरा ब्योरा तलब किया गया है।  माइक्रोबायोलॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ अमरेश सिंह ने बताया कि कोरोना का कप्पा वैरिएंट यूपी में पहली बार मिला है। यूपी में अब तक जिन दो मरीजों में कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट की पुष्टि हुई है, उनमें से एक देवरिया निवासी 66 वर्षीय बुजुर्ग भी शामिल थे। इनकी बीती 29 मई को मौत भी हो चुकी है। अब जीनोम सीक्वेंसिंग की रिपोर्ट आने पर डेल्टा प्लस वेरिएंट की पुष्टि हुई है। फिलहाल इनके घर के सभी छह सदस्यों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इनमें डेल्टा प्लस नहीं मिला है। इसके साथ ही गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज की 23 वर्षीय रेजीडेंट डाक्टर भी बीती 26 मई को कोरोना से संक्रमित हुई थी और इनका सैंपल भी जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजा गया था। इस खबर के सामने आने से लोगों के मन में डर पैदा हो गया है। क्योंकि कोरोना वायरस की दूसरी लहर अब तक कई सारे लोगों की जान ले चुकी है। ऐसे में तीसरी लहर के आने से लोगों में एक बार फिर से डर पैदा हो गया है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: