शनिवार, 29 जनवरी 2022 | 07:22 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम योगी ने प्रयागराज में अतीक से मुक्त भूमि पर किया शिलान्यास, बोले- दीवारों से निकल रहा गरीबों का पैसा          राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने पतंजलि विश्वविद्यालय,हरिद्वार के प्रथम दीक्षांत समारोह में गोल्ड मेडलिस्ट विद्यार्थियों को प्रदान की उपाधि          ओमीक्रॉन कोरोना वेरिएंट की भारत में हुई एंट्री          वर्ष 2025 तक उत्तराखण्ड बनेगा हर क्षेत्र में अग्रणी राज्यःसीएम पुष्कर सिंह धामी          सीएम पुष्कर धामी ने राइजिंग उत्तराखण्ड कार्यक्रम में किया प्रतिभाग,गायक जुबिन नौटियाल को किया सम्मान          1 दिसंबर से सउदी अरब जा सकेंगे भारतीय          उत्तराखंड में कोरोना काल में सराहनीय कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि          T20 रैंकिंग में रोहित शर्मा को हुआ फायदा          15 दिसम्बर तक स्वरोजगार योजनाओं के तहत लोन के निर्धारित लक्ष्य को किए जाने के सीएम धामी ने दिए निर्देश          सीएम योगी आदित्यनाथ एवं सीएम पुष्कर धामी की लखनऊ में हुई बैठक में निपटा उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड का 21 वर्ष पुराना विवाद         
होम | सेहत | देश में एक दिन में आए 2 लाख कोरोना के मामले

देश में एक दिन में आए 2 लाख कोरोना के मामले


देश और दुनिया में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। भारत में कोरोना अपने पीक पर पहुंच गया है। भारत में कोरोना के मामले एक दिन 2 लाख का आंकड़ा पार कर गए हैं। देश में कोरोना वायरस के नए केसों में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है। शुक्रवार सुबह बीते एक दिन का जो आंकड़ा सामने आया है, उससे ऐसा लगता है कि कोरोना की तीसरी लहर अपने पीक की ओर बढ़ रही है। देश भर में 2 लाख 64 हजार से ज्यादा नए केस मिले हैं। इसके साथ ही देश भर में सक्रिय कोरोना मामलों की संख्या तेजी से बढ़ते हुए 12,72,073 हो गई है। राहत की बात यह है कि इसी एक दिन में 1 लाख 9 हजार से ज्यादा लोगों ने कोरोना को मात भी दी है। वहीं ग्रोथ रेट भी बहुत ज्यादा नहीं है। गुरुवार को देश भर में 2.47 लाख मामले मिले थे। रिपोर्ट में कहा गया है, 'भारत में, डेल्टा वेरिएंट के संक्रमण की एक घातक लहर ने अप्रैल और जून के बीच 2,40,000 लोगों की जान ले ली थी और आर्थिक सुधार बाधित हुआ था। निकट समय में इसी तरह के हालात पैदा हो सकते हैं।’ संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के विभाग के अवर महासचिव लियु जेनमिन ने कहा, 'कोविड-19 को नियंत्रित करने के लिए एक समन्वित और निरंतर वैश्विक दृष्टिकोण के बिना यह महामारी वैश्विक अर्थव्यवस्था के समावेशी और स्थायी उभार के लिए सबसे बड़ी जोखिम बनी रहेगी। इस तरह भारत में कोरोना के मामले लगतार बढ़ते ही जा रहे हैं। जिसके कारण लोगों में डर पैदा हो गया है।

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: