मंगलवार, 20 अप्रैल 2021 | 09:23 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
कोरोना से बिगडे़ हालात: एक दिन में 2.16 लाख नए मामले, 1184 मौतें और 15 लाख सक्रिय केस          शिक्षा मंत्री का एलान, देशभर में दसवीं की परीक्षाएं रद्द व बारहवीं की स्थगित          अमेरिकी सांसद ने उड़ाए इमरान के होश, बोले-आतंकियों को आसरा देता है पाकिस्तान          यूएई के प्रधानमंत्री बने ब्रिटेन के सबसे बड़े जमींदार, खरीदी एक लाख एकड़ जमीन          हरिद्वार-दो अखाड़ों ने की कुंभ समापन की घोषणा, नाराज संत बोले-अपनी अवधि तक चलेगा मेला          गीतकार पंडित किरण मिश्र का निधन, 67 की उम्र में ली अंतिम सांस          केदारनाथ धाम के पत्थरों से तैयार किए गए 10 हजार शिवलिंग, घर ले जा सकेंगे तीर्थयात्री          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | उत्तराखंड में कोरोना का पहला पॉजिटिव केस मिलने से लिए गए कई फैसले

उत्तराखंड में कोरोना का पहला पॉजिटिव केस मिलने से लिए गए कई फैसले


उत्तराखंड में कोरोना का पहला केस मिलने के बाद राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में एमबीबीएस के प्रथम से चतुर्थ ईयर तक के छात्र-छात्राओं का अवकाश घोषित कर दिया गया है। आदेश आज से लागू हुआ है। दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग द्वारा विदेश से लौटे 12 लोगों पर  नजर रखी जा रही है। शासन से सीएमओ को अब तक विदेश से लौटे 143 लोगों की लिस्ट मिल चुकी है। 

देहरादून से शनिवार को कोरोना संदिग्ध दो लोगों के सैंपल जांच के लिए आए थे। रविवार को राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी की वायरोलाजी लैब में कोरोना जांच के दौरान एक सैंपल पॉजिटिव आ गया। इसके बाद प्राचार्य डॉ. सीपी भैसोड़ा ने देर शाम एमबीबीएस प्रथम से चतुर्थ ईयर तक के छात्र-छात्राओं का 31 मार्च तक अवकाश घोषित कर दिया। प्राचार्य ने बताया कि एमबीबीएस फाइनल ईयर और पीजी के छात्र-छात्राओं की कक्षाएं चलती रहेंगी। 

स्वास्थ्य विभाग 33 लोगों की 14 दिनों तक निगरानी करेगा। मेडिकल कॉलेज के वायरोलाजी लैब में 16 मरीजों के सैंपल जांच के लिए आ चुके हैं। सोमवार को छह सैंपल की जांच के बाद रिपोर्ट आएगी। एसीएमओ डॉ. रश्मि पंत ने बताया कि रविवार को शासन से विदेश से लौटे 12 लोगों की लिस्ट मिली है। सभी के घर सोमवार को टीम भेजी जाएगी। 
नैनीताल जिले के चार सैंपल की जांच हुई और अब तक एक भी केस पॉजिटिव नहीं आया है। आइसोलेशन वार्ड बनाए जा चुके हैं। डॉ. राणा ने कहा कि जिन निजी अस्पतालों ने अपने यहां आइसोलेशन वार्ड बनाए हैं, वो कोरोना के मरीजों को रख सकते हैं। मरीज या संदिग्ध की सूचना तत्काल स्वास्थ्य विभाग को देनी होगी। निजी अस्पताल में अगर कोई मरीज या कोरोना का संदिग्ध पहुंचता है तो उसके सैंपल की जांच कराई जाएगी। 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: