बृहस्पतिवार, 29 फ़रवरी 2024 | 04:22 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | सेहत | कड़ाके की ठंड में बढ़ जाता है इन बीमारियों का ख़तरा, ऐसे रखिए ख़्याल

कड़ाके की ठंड में बढ़ जाता है इन बीमारियों का ख़तरा, ऐसे रखिए ख़्याल


सर्दी का मौसम शुरू हो चुका है. सर्दी का मौसम यूं तो लोगों को अच्छा लगता है लेकिन सेहत की नजर से ये मौसम अपने साथ कई सारे रिस्क लेकर आता है. हेल्थ एक्सपर्ट कहते हैं कि सर्दियों के मौसम में कुछ खास तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है. ऐसे में लोगों को अपनी सेहत को लेकर सतर्क रहना चाहिए. चलिए जानते हैं कि सर्दियों के मौसम में किन बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है और इस ठंड के मौसम में किन लोगों को विशेष तौर पर सतर्क रहने की जरूरत पड़ती है. 
सर्दी के मौसम में कई तरह के वायरस और बैक्टीरिया एक्टिव हो जाते हैं. ये बैक्टीरिया सांस के माध्यम से शरीर में प्रवेश करके शरीर को बीमार कर डालते हैं. इससे सांस संबंधी संक्रमण बहुत जल्दी और व्यापक तरीके से फैलता है. ऐसे में सर्दी जुकाम के साथ साथ लंग इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है. इसके अलावा जिन लोगों की इम्यूनिटी कमजोर होती है, उनको इस मौसम में निमोनिया होने का रिस्क बढ़ जाता है. सर्दी के मौसम में ठंडी और रूखी हवा से अस्थमा और ब्रोंकाइटिस जैसी बीमारियां जल्दी होती हैं. सर्दी के मौसम में माइग्रेन का दर्द भी तेजी से ट्रिगर करता है. जिन लोगों को पहले से सिर में दर्द रहता है या माइग्रेन होता है, इनको इस मौसम में माइग्रेन के अटैक का रिस्क रहता है. इसके अलावा जिन लोगों को ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है, उनका बीपी इस मौसम में ज्यादा बढ़ सकता है. दरअसल सर्दी के मौसम में टैंपरेचर कम होने के कारण ब्लड वैसल्स अस्थायी रूप से पतली हो जाती हैं, इससे बीपी बढ़ जाता है और खून की नसों में खून के सही फ्लो में दिक्कत होने लगती है. 
सर्दी के मौसम में उन लोगों को खास ध्यान रखना चाहिए जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है. ऐसे लोग जो हाई बीपी के शिकार हैं, उनको भी इस समय खास सावधानी बरतनी चाहिए. छोटे बच्चों और शिशुओं को इस मौसम में जल्दी निमोनिया होता है, इस लिहाज से इनका खासा ध्यान रखना चाहिए. जो लोग अस्थमा, ब्रोंकाइटिस या सांस संबंधी बीमारी के शिकार होते हैं, उनको भी इस मौसम में सेहत को लेकर सतर्क रहना चाहिए.

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: