शनिवार, 24 जुलाई 2021 | 11:35 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम पुष्कर धामी ने किया 179 करोड़ की 65 योजनाओं का लोकार्पण,शिलान्यास          मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने रुद्रपुर में अधिकारियों के साथ विकास कार्यों की समीक्षा          कोरोना महामारी के बीच ओलंपिक गेम्स हुए शुरू          सीएम पुष्कर धामी ने कोविड-19 से बचाव के लिये उच्चाधिकारियों एवं जिलाधिकारियों के साथ की समीक्षा          उत्तराखंड में कांग्रेस का सियासी संकट खत्म,हरीश रावत होंगे मुख्यमंत्री का चेहरा          कोरोना संक्रमण के चलते आर्थिक मंदी से जूझ रहे चारधाम यात्रा व पर्यटन को उभारे के लिए धामी सरकार की 200 करोड़ रूपए के आर्थिक पैकेज की घोषणा          प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत उत्तराखंड में 240 लाभार्थियों को दिया गया आवास कब्जा          इसरो की सेटेलाइट से बच्चें करेंगे ऑन लाइन पढ़ाई         
होम | विचार | फेसबुक की हाहा इमोजी को देख भड़के मौलाना ने फेसबुक को किया फतवा जारी

फेसबुक की हाहा इमोजी को देख भड़के मौलाना ने फेसबुक को किया फतवा जारी


दुनियाभर में इस्तेमाल किए जाने वाली फेसबुक एक बार फिर से खबरों में आ गया है। इस बार फेसबुक अपने काम की वजह से नहीं बल्कि इमोजी की वजह से खबरों में बनी हुई है। फेसबुक की हाहा इमोजी पर एक मुस्लिम धर्मगुरू ने अपना गुस्सा निकालते हुए एक फतवा जारी कर दिया है। जिसे जानने के बाद आपके होश उड़ जाएंगे। बांग्लादेश के मुस्लिम धर्मगुरु और चर्चित मौलाना ने फेसबुक के 'हाहा' इमोजी के खिलाफ अजीबोगरीब फरमान जारी किया है। बीते दिनों मौलाना अहमदुल्लाह ने तीन मिनट का वीडियो पोस्ट किया और फेसबुक पर लोगों के मजाक उड़ाने की चर्चा की। उसके कुछ ही देर बाद उन्होंने फतवा जारी कर दिया। साथ ही यह भी बताया कि यह किस तरह से मुस्लिमों के लिए 'हराम' है। अहमदुल्ला ने कहा, 'आजकल हम फेसबुक के हाहा इमोजी का इस्तेमाल लोगों का मजाक उड़ाने के लिए करते हैं।' उनके इस वीडियो को अब तक 20 लाख बार देखा जा चुका है। मौलाना अहमदुल्लाह के फेसबुक और यूट्यूब पर 30 लाख से ज्यादा फॉलोवर हैं। अहमदुल्लाह ने तीन मिनट लंबा वीडियो फेसबुक पर पोस्ट किया। वीडियो में उन्होंने फेसबुक पर लोगों का मजाक बनाए जाने पर चर्चा की है। पोस्ट किए गए वीडियो में उन्होंने कहा,' आजकल हम फेसबुक के 'हा हा' इमोजी का इस्तेमाल लोगों का मजाक बनाने के लिए करते हैं।' उन्होंने कहा कि अगर हम हंसी-मजाक के लिए हाहा करते हैं और पोस्ट करने वाला शख्स भी इसे उसी तरह समझता है तो कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन अगर आपका रिएक्शन लोगों का मजाक बनाने के लक्ष्य से किया गया है तो यह इस्लाम में पूरी तरह हराम है। अहमदुल्लाह के इस बयान पर लोगों की तरफ से कई तरह के बयान आ रहे हैं। और कुछ लोग धर्म गुरू को जमकर ट्रोल भी कर रहे हैं। इसके साथ ही मुस्लिम धर्मगुरू की सोच पर भी सवाल खड़े कर रहे हैं। अहमदुल्लाह के इस वीडियो के सामने आने बाद उनका ये वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: