रविवार, 7 जून 2020 | 11:23 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | धर्म-अध्यात्म | चंद्र ग्रहण के चलते उत्तराखंड के सभी धामों के कपाट बंद

चंद्र ग्रहण के चलते उत्तराखंड के सभी धामों के कपाट बंद


श्री बदरीनाथ,श्री केदारनाथ,श्री गंगोत्री यमुनोत्री धाम, श्री नृसिंह मंदिर,पंच बदरी-पंच केदार, श्री कालीमठ, श्री त्रिजुगी नारायण, ग्रहण काल में बंद रहेंगे। 17 जुलाई को चंद्रग्रहण के कारण 16 जुलाई को शाम से बदरीनाथ, केदारनाथ, बदरी-केदार के अधीनस्थ मंदिरों, सहित श्री गंगोत्री, श्री यमुनोत्री धाम के कपाट बंद रहेंगे। चंद्र ग्रहण 17 जुलाई रात 1:31बजे से लेकर 4:31 बजे तक रहेगा। ग्रहणकाल से 9 घंटे पहले सूतक काल माना जाता है। सूतक काल के चलते उत्तराखंड में सभी धामों के कपाट बंद रहेगे। जिसके बाद 17 जुलाई को प्रातः 4:40 बजे  बदरीनाथ मंदिर के कपाट खुलेगे और 6 बजे से अभिषेक पूजा  शुरू होगी।

ज्योतिषियों के अनुसार इस ग्रहण का असर  देश-विदेश के सभी मंदिरो पर भी पड़ेगा इस लिए हर जगह ग्रहण से 9 घण्टे पहले मंदिर बंद हो जायेंगे। भू बैकुण्ड धाम की बात करे तो  बदरीनाथ के कपाट 16 जुलाई को बंद कर दिए गए है। इसके लिए शाम 3:15 बजे सायंकालीन मंगल आरती पूजा की गई..3:45 बजे भोग और शयन आरती हुई और शाम 4:25 बजे मंदिर के कपाट बंद कर दिए गए।

बदरीनाथ धाम के धर्माधिकारी भुवनचन्द्र उनियाल ने बताया कि 16  और 17 जुलाई  को रात 1:31 बजे से 4:31 प्रातःतक चंद्रग्रहण है । ग्रहणकाल से 9 घण्टे पूर्व सूतककाल लग जाता है। इस लिए बदरीनाथ धाम के कपाट सायं 4:25 बजे बंद कर दिए गए है। भगवान बदरीनाथ की  अपराह्न  3:15 बजे सायंकालीन पूजा मंगल आरती 3:45 अपराह्न भोग और शयन आरती हुई और सायं 4:25 बजे मंदिर बंद कर दिया गया...और 17 जुलाई को प्रातः4:40 बजे बदरीनाथ धाम की घंटी बजेगी और 6 बजे अभिषेक पूजा होगी और बाकि पूजा यथावत चलेगी। 

श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के मीडिया प्रभारी डा.हरीश गौड़ ने बताया कि श्री बदरीनाथ एवं श्री केदारनाथ मंदिर सहित  नृसिंह मंदिर जोशीमठ, माता मूर्ति  मंदिर बदरीनाथ,श्री आदि केदारेश्वर मंदिर बदरीनाथ,सभी  पंच बदरी मंदिर, पंच केदार, श्री कालीमठ मंदिर, श्री त्रिजुगीनारायण मंदिर ग्रहणकाल में बंद कर दिए गए है। 17 जुलाई को शुद्धिकरण पश्चात यथावत पूजा-अर्चना शुरू हो जायेगी और आम लोगों के लिए सभी धामों के दर्शन हेतु कपाट खुल दिए जाएंगे।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: