सोमवार, 24 फ़रवरी 2020 | 07:46 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | पर्यावरणविद चंडी प्रसाद भट्ट को मिलेगा इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार

पर्यावरणविद चंडी प्रसाद भट्ट को मिलेगा इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार


प्रसिद्ध पर्यावरणविद और समाजसेवी चंडी प्रसाद भट्ट को राष्ट्रीय एकता एवं सद्भाव के लिए प्रतिष्ठित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार के लिए चुना गया है। कांग्रेस की इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार सलाहकार समिति के सदस्य सचिव मोती लाल वोरा ने शुकवार को यहां जारी विज्ञप्ति में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि श्री भट्ट का चयन 2017 एवं 2018 के पुरस्कार के लिए हुआ है। उन्हें देश की एकता और अखंडता को बढावा देने के लिए 31वें इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

पुरस्कार पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बलिदान दिवस 31 अक्टूबर को प्रदान किया जाएगा। श्री भट्ट को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी यह पुरस्कार प्रदान करेगी। पुरस्कार के तहत एक प्रशस्ति पत्र और दस लाख रुपए नकद दिए जाते हैं। कांग्रेस पार्टी ने इस पुरस्कार की स्थापना अपने शताब्दी वर्ष 1985 में की थी। इस सम्मान से अब तक स्वामी रंगनाथ नंदा, श्रीमती अरुणा आसफ अली, श्रीमती एस एम सुब्बालक्ष्मी, राजीव गांधी (मरणोपरांत), एपीजे अब्दुल कलाम, प्रो सतीश धवन, डा शंकर दयाल शर्मा, महाश्वेता देवी, मोहन धारिया, ए आर रहमान जैसी प्रमुख हस्तियों को नवाजा जा चुका है।

23 जून 1934 को निर्जला एकादशी के दिन गोपेश्वर गांव जिला चमोली उत्तराखंड के एक गरीब परिवार में जन्मे चंडी प्रसाद भट्ट सातवें दशक के प्रारंभ में सर्वोदयी विचार-धारा के संपर्क में आए और जयप्रकाश नारायण तथा विनोबा भावे को आदर्श बनाकर अपने क्षेत्र में श्रम की प्रतिष्ठा सामाजिक समरसता, नशाबंदी और महिलाओं-दलितों को सशक्तीकऱण के द्वारा आगे बढ़ाने के काम में जुट गए। वनों का विनाश रोकने के लिए ग्रामवासियों को संगठित कर 1973 से चिपको आंदोलन आरंभ कर वनों का कटान रुकवाया।

रूस, अमेरिका, जर्मनी, जापान, नेपाल, पाकिस्तान, बांग्लादेश, फ्रांस, मैक्सिको, थाईलैंड, स्पेन, चीन आदि देशों की यात्राओं, सैकड़ों राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में भागीदारी के साथ ही श्री भट्ट राष्ट्रीय स्तर की अनेक समितियों एवं आयोगों में अपने व्यावहारिक ज्ञान एवं अनुभव का लाभ-प्रदान कर रहे हैं। 1982 में रमन मैग्ससे पुरस्कार, 1983 में अरकांसस (अमेरिका) अरकांसस ट्रैवलर्स सम्मान, 1983 में लिटिल रॉक के मेयर द्वारा सम्मानिक नागरिक सम्मान, 1986 में भारत के माननीय राष्ट्रपति महोदय द्वारा पद्मश्री सम्मान, 1987 में संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम द्वारा ग्लोबल 500 सम्मान, 1997 में कैलिफोर्निया (अमेरिका) में प्रवासी भारतीयों द्वारा इंडियन फॉर कलेक्टिव एक्शन सम्मान, 2005 में पद्म भूषण सम्मान, 2008 में डॉक्टर ऑफ साईंस (मानद) उपाधि, गोविंद वल्लभ पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय पंतनगर, 2010 रियल हिरोज लाईफटाईम एचीवमेंट अवार्ड सी.एन.एन. आई.बी.एन, -18 नेटवर्क तथा रिलाईंस इंडस्ट्रीज द्वारा सम्मान एवं पुरस्कार प्राप्त हुए हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: