सोमवार, 27 सितंबर 2021 | 02:53 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | देश | मोदी सरकार ने खोल दी किसानों की किस्मत

मोदी सरकार ने खोल दी किसानों की किस्मत


 

कृषि कानूनों का महीनों से विरोध कर रहे किसानों को मोदी सरकार ने बड़ी राहत दी है। जिसकी चर्चा हर तरफ हो रही है। किसानों और सरकार के बीच हुई 11 बैठकों के बेनतीजा होने के बाद मोदी सरकार ने किसानो को बड़ी सौगात दी है। केंद्र सरकार ने बुधवार को मौजूदा फसल वर्ष के लिए गेहूं और सरसों समेत 6 रबी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में इजाफे का ऐलान किया। गेहूं की एमएसपी 40 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ा दी गई है। इजाफे के बाद 2,015 रुपए प्रति क्विंटल की न्यूनतम कीमत पर गेहूं की खरीद होगी। इसके अलावा सरसों की एमएसपी 400 रुपए प्रति क्विंटल बढ़ाकर 5,050 रुपए कर दी गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई में कैबिनेट कमिटी ऑन इकॉनमिक अफेयर्स की बैठक में यह फैसला लिया गया है। जौ की एमएसपी 35 रुपए बढ़ाकर 1635 रुपए प्रति क्विंटल कर दी गई है। चने की कीमत 130 रुपए बढ़ाकर 5,230 रुपए प्रति क्विंटल कर दी गई है। मसूर की एमएसपी 400 रुपए बढ़ाने के बाद 5,500 रुपए प्रति क्विंटल हो गई है। कुसुम की एमएसपी 114 रुपए बढ़ाकर 5,441 रुपए प्रति क्विंटल करने का फैसला लिया गया है। कैबिनेट ने विपणन वर्ष 2022-23 के लिए गेहूं के एमएसपी में 40 रुपये प्रति क्विंटल का इजाफा कर 2015 रुपये कर दिया है। इसके अलावा चने के न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य में 130 रुपये की बढ़ोतरी कर 5,100 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया है। इस बार सबसे ज्‍यादा बढ़ोतरी तिलहन में की गई है। केंद्र सरकार ने सरसों के एमएसपी में 400 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी कर 4,650 रुपये करने का ऐलान किया है. वहीं, मसूर में भी 400 रुपये की बढ़ोतरी कर 5,100 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है। जौं की एमएसपी 1600 रुपये से बढ़ाकर 1635 रुपये प्रति क्विंटल कर दी गई है। मोदी सरकार के इस फैसले से किसानों में खुशी का माहौल है। इसकी साथ ही इसकी चर्चा हर तरफ हो रही है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: